जेएनएन, जींद। जुलाना कस्बे से अपहृत एक व्यापारी ने सूझबूझ दिखाते हुए अपनी जान बचा ली। उसने पत्नी को वाट्स एप से अपनी अपहर्ताओं की गिरफ्त में फोटो भेज दी। पत्नी ने पुलिस को सूचना दे दी और इसके बाद पुलिस ने फोन की लोकेशन के आधार पर पहुंच कर उसे मुक्त करा लिया। तीनों अपहर्ताओं को पुलिस ने  गिरफ्तार कर लिया। अपहरण का कारण व्यापारी द्वारा अभियुक्तों को रकम न लौटाया जाना था।

पुलिस के मुताबिक, जुलाना की पुरानी अनाज मंडी में दवाओंं की दुकान करने वाले विजय का रविवार दिन में 11 बजे चार युवकों ने अपहरण कर लिया और उसे जुलाना के इर्द गिर्द घुमाते रहे। उसे खेतों में लेकर पीटा भी गया। इसी दौरान विजय ने मोबाइल पर अपनी फोटो खींचकर पत्नी के पास वाट्सएप पर भेज दिया। इससे उसकी पत्नी को अपहरण होने का पता चल गया।

यह भी पढ़ें: मां को गाली देता था बाप, इसलिए मार डाला

पत्नी ने तुरंत इस बारे में पुलिस को सूचना दे दी। सूचना मिलने के बाद पुलिस ने रात्रि नौ बजे कार में सवार विजय को मुक्त कराया और तीन अपहर्ताओं  गांव बधाना के रहने वाले सचिन, जुलाना के सुनील उर्फ शीला जुलाना और फरमाना के आशीष को गिरफ्तार कर लिया। उनका चौथा साथी दिल्ली पुलिस में तैनात रामगढ़ गांव निवासी नरेंद्र भाग निकला। जुलाना चौकी इंचार्ज कृष्ण खर्ब ने बताया कि अभियुक्तों को विजय से एक लाख तीन हजार रुपये लेने थे, इसी कारण विजय का अपहरण किया गया।

यह भी पढ़ें: फर्जी शस्त्र लाइसेंस मामले में घिरी सोहा अली खान, एफआइआर के आदेश


 

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस