जागरण संवाददाता, अंबाला : शादी के रंग में भंग पड़ते ही नाबालिग दुल्हन की बड़ी बहन ने बाल विवाह को छिपाने के लिए हाथों में चूड़ा पहन लिया। बाल विवाह रुकवाने पहुंची टीम को गुमराह कर कहा गया कि मेरी शादी है और राशन कार्ड में चाहे तो मेरी उम्र देख लो। कुछ देर बाद ही सच से पर्दा उठ गया और टीम ने नाबालिग दुल्हन व उसके पति से पूछताछ कर पूरी गुत्थी सुलझा दी। हालांकि टीम बाल विवाह की सारी रस्में अदा होने के बाद शादी समारोह वाले घर में पहुंची। इस दौरान बरातियों की शादी रुकवाने पहुंची पुलिस कर्मियों के साथ कहासुनी भी हुई। पुलिस ने दूल्हा, उसके पिता, बड़े भाई सहित नाबालिग दुल्हन की मां को गिरफ्तार कर लिया। यह बाल विवाह अंबाला छावनी के रंगियां मंडी में हुआ। संबंधी बने दोनों परिवार पहले से ही रिश्तेदार हैं। पुलिस ने नाबालिग दुल्हन को तो वापस अपने मायके भेज दिया और आरोपितों को रविवार सुबह मजिस्ट्रेट कोर्ट में पेश कर दिया है।

-------------------

बड़ी बहन दिखाने लग गई अपना चूड़ा

दरअसल, जिला प्रोटेक्शन आफिसर अर¨वद्रजीत कौर को सूचना मिली थी कि रंगिया मंडी में एक नाबालिग की शादी की जा रही है। उन्होंने इस बारे में आलाधिकारियों को जानकारी दी। इसके बाद महिला अधिकारी राज्य बाल अधिकार सरंक्षण आयोग सदस्य परमजीत ¨सह बड़ौला व अन्य टीम पड़ाव थाने में पहुंची और यहां से पुलिस के साथ रंगिया मंडी में गई। टीम ने यहां पूछताछ शुरू की तो सबसे पहले दुल्हन की बड़ी बहन सामने आई। वह प्रोटेक्शन आफिसर व पुलिस के सामने खुद को ही दुल्हन बताने लग गई। उसने अधिकारी को कहा कि देखो मैंने शादी के लिए चूड़ा पहना हुआ है। इस झूठ को सच साबित करने के लिए उसने सबके सामने अपनी मां से कहा कि घर का राशन कार्ड दिखाओ। राशन कार्ड में मेरी उम्र 18 साल से अधिक है। इसी बीच दुल्हन की सबसे छोटी बहन कमरे में आ गई। अधिकारी ने जब उससे पूछा कि बेटा सच क्या है तो उसने सच से पर्दा उठा दिया। उसने बताया कि उसकी बड़ी बहन की शादी है। पूछने पर बताया कि फेरे हो चुके है और ¨सदूर से मांग भी भर दी है।

मंगनी बताकर सच छिपाने का किया प्रयास

इसके बाद अधिकारी ने दुल्हन व फिर दूल्हे को कमरे में बुलाया। इसके बाद अन्य परिजन भी वहां आ गए और बार-बार शादी नहीं बल्कि रिश्ता होने की बात कहकर अधिकारी को गुमराह करने लगे। अधिकारी ने पूछा कि क्या रिश्ते में कोई मंगलसूत्र, मांग में ¨सदूर और हाथों में चूड़ा पहनता है। इसके बाद वहां हंगामा हो गया और परिजनों ने जोर-जोर से चिल्लाना शुरू कर दिया। इसी बीच दूल्हे का बड़ा भाई व दुल्हन का जीजा वहां आया और कहा कि उन्हें कोई रिश्ता नहीं करना है। वह दो साल बाद शादी कर लेंगे, लेकिन पुलिस ने उसे दूल्हे को बाहर ले जाने से इंकार कर दिया जिसके बाद मामला तूल पकड़ गया और धक्का-मुक्की हो गई। पुलिस ने दूल्हे के बड़े भाई को जबरन कमरे से बाहर किया और वहीं घर के बाहर मौजूद बारातियों समेत दुल्हन के अन्य परिजनों ने पुलिस को अपशब्द बोलने शुरू कर दिए। जब दुल्हन का जन्म प्रमाण पत्र चेक किया गया तो उसकी आयु 12 नवंबर 2003 निकली।

जिप्सी में दुल्हन ससुराल नहीं पहुंची थाने

प्रोटेक्शन अधिकारी के आदेश पर पुलिस ने दूल्हा, दुल्हन समेत अन्य परिजनों को हिरासत में लिया और अपने साथ पड़ाव थाने में ले गई। पूछताछ करने पर दूल्हे ने अपना नाम अनिल कुमार निवासी इंदिरा कॉलोनी टोहना रोड नरवाना जिला जींद बताया। उसकी उम्र करीब 26 साल निकली जो कि दुल्हन से करीब 11 साल अधिक है। इसके बाद पुलिस ने यहां दोनों पक्षों के अलग-अलग बयान दर्ज किए जिसके बाद पता चला कि नाबालिग दुल्हन पिछले दो साल से अपनी बड़ी बहन के पास उसकी ससुराल में रह रही थी। बड़ी बहन ने अपने देवर के साथ छोटी बहन का रिश्ता करवा उनकी शादी करवाई। पुलिस ने पड़ाव थाने में बाल विवाह निषेध अधिनियम 2006 के तहत दूल्हा अनिल, पिता हरिकेष, बड़ा भाई विक्रम व दुल्हन की मां के खिलाफ मामला दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया।

वर्जन

सूचना मिलते ही मैं पुलिस के साथ मौके पर गई, लेकिन तब तक नाबालिग की शादी हो चुकी थी। इसी कारण मैंने पुलिस में दोनों पक्षों पर केस दर्ज करवाने के लिए सिफारिश की है।

अर¨वद्रजीत कौर, प्रोटेक्शन आफिसर।

बाल विवाह निषेध अधिनियम 2006 के तहत दूल्हे सहित अन्य चार के खिलाफ केस दर्ज कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया है। आरोपितों को रविवार सुबह मजिस्ट्रेट कोर्ट में पेश किय जाएगा।

भूषण दास, पड़ाव थाना प्रभारी।

दुल्हन को थाने में पूछा गया तो उसने घर जाने की इच्छा जाहिर की। इसलिए उसको घर भेज दिया और उसके परिजनों के खिलाफ केस दर्ज करवाया गया है।

परमजीत बड़ौला, राज्य बाल अधिकार सरंक्षण आयोग सदस्य।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran