संवाद सूत्र, जुलाना : कस्बे की लक्ष्मण कालोनी में पिछले 65 वर्षों से प्लाटों के इंतकाल नहीं हो रहे हैं। भू-माफिया खाल पड़े प्लाटों पर कब्जा कर रहा है। प्रशासन कालोनी के लोगों की बात सुन नहीं रहा है। भू-माफिया से तंग आकर व इंतकाल करवाने की मांग को लेकर कालोनी के लोगों ने अब अदालत की शरण ली है। कालोनी निवासियों का कहना है कि उन्होंने छोटे से बड़े अधिकारी तक उनके मकान व प्लाट का इंतकाल करवाने के लिए गुहार लगाई। डीसी को भी इस बारे में कई शिकायत दी गई। लेकिन कोई कार्रवाई आज तक नहीं हुई। कालोनी निवासी प्रमोद ने बताया कि 1962 में जुलाना की लक्ष्मण कालोनी विकसित हुई थी। उस समय करीब पांच एकड़ जमीन में लोगों को प्लाट काटकर बेचे गए थे। जिस महिला ने यह प्लाट बेचे थे। अब उसके रिश्तेदार यहां रह रहे लोगों से प्लाटों की जमीन के इंतकाल की एवज में मोटी रकम की मांग कर रहे हैं। इसके साथ कुछ भू-माफिया भी सक्रिय हैं, जो खाली पड़े प्लाटों पर कब्जा कर लेते हैं। जिन लोगों ने मकान बनाएं हैं, खेत की जमीन दिखाकर खुद के नाम करा लेते हैं। प्रमोद ने बताया कि उसका 652 गज का प्लाट लक्षमण कालोनी में है, जो उसने 1990-91 में खरीदा था। इस जमीन का इंतकाल अब तक नहीं हुआ है। प्लाट की रजिस्ट्री भी उसके पास है। कुछ व्यक्तियों ने प्लाट पर चल रहे निर्माण कार्य को रूकवा दिया और कहा कि यह जमीन हमारी है। पिछले दिनों तहसील कर्मचारी और अधिकारियों के साथ मिलकर कृषि योग्य भूमि दिखाकर जमीन की रजिस्ट्रयां अपने नाम करवा ली हैं। अदालत में ये भू-माफिया मुकदमें भी हार चुके हैं। इसके बाद भी प्रशासन मौन है। यह कालोनी वार्ड 11 में नगरपालिका प्रशासन के अधीन आती है। जिसमें लाइट, सड़कें, स्कूल व सीवरेज सिस्टम है। फिर यह कृषि भूमि कैसे हो सकती है। अब प्रमाोद ने इस मामले में अदालत की शरण ली है।

-------------------------------------

वर्जन्:::::::::

लक्ष्मण कालोनी के लोगों की अभी तक इंतकाल से संबंधित शिकायत उसके पास नहीं आई है। अगर कोई शिकायत आती है, तो उसका समाधान जल्द ही करवा दिया जाएगा।

-मनोज कुमार, तहसीलदार जुलाना।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस