जागरण संवाददाता, जींद : हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग द्वारा 18 व 19 सितंबर को ली गई महिला कांस्टेबल की परीक्षा से रोडवेज को फायदा हुआ। महिला परीक्षार्थियों के लिए रोडवेज प्रबंधन द्वारा स्पेशल बस चलाई गई थी। आमतौर पर डिपो की 140 से अधिक बस आनरूट रहती हैं, जो दिनभर में 36 हजार से अधिक किलोमीटर चलती हैं। जिससे लगभग 13 लाख रुपये की आमदनी होती है। वहीं 18 व 19 सितंबर को रोडवेज द्वारा महिला परीक्षार्थियों के लिए चलाई गई स्पेशल बस के चलते एक तरफ जहां परीक्षार्थियों को परीक्षा केंद्र पर पहुंचने में आसानी हुई। वहीं इन दो दिनों में डिपो की आमदनी भी अन्य दिनों की अपेक्षा ज्यादा रही। 18 सितंबर को डिपो की आमदनी 15 लाख 65 हजार 675 रुपये रही। वहीं 18 सितंबर को डिपो की बस 39 हजार 161 किलोमीटर दौड़ी। 19 सितंबर को डिपो की आमदनी 19 लाख 26 हजार 716 रुपये रही और उस दिन डिपो की बसें 40 हजार 993 किलोमीटर चली। 18 सितंबर को दो लाख 50 हजार रुपये और 19 सितंबर को छह लाख रुपये ज्यादा आमदनी हुई। महिला परीक्षार्थियों के लिए पहले 10 बस रिजर्व रखी गई थी। दोनों दिन अपेक्षा से ज्यादा भीड़ रही। जिसके कारण ज्यादा बसें चलानी पड़ी। परीक्षा केंद्र अंबाला, कुरुक्षेत्र, पंचकुला, करनाल व यमुनागर में बनाए गए थे। परीक्षार्थियों के लिए चलाई अतिरिक्त बसें

रोडवेज जीएम गुलाब सिंह दूहन ने बताया कि महिला परीक्षार्थियों को परीक्षा केंद्रों पर पहुंचने में किसी प्रकार की पेरशानी नहीं हो, इसके लिए स्पेशल बसें चलाई गई। इससे रोडवेज की आमदनी में भी इजाफा हुआ।

Edited By: Jagran