जागरण संवाददाता, जींद : डीएवी स्कूल में शुक्रवार को अंतर सदनीय विज्ञान, गणित तथा प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता करवाई गई। इस अवसर पर डीएवी संस्थाओं के क्षेत्रीय निदेशक डॉ. धर्मदेव विद्यार्थी ने कहा कि इन प्रतियोगिताओं से बच्चों के अंदर सोचने की क्षमता विकसित होती है, जिससे बच्चों के अंदर छिपी प्रतिभा उजागर होती है। विद्यार्थियों को अपना व्यक्तित्व निखारने का अवसर मिलता है और ज्ञानवर्धन भी होता है। डॉक्टर विद्यार्थी ने बच्चों को बताया कि उन्हें रट्टा लगाने की बजाय पढ़ाई को प्रैक्टिकली इंजॉय करते हुए पढ़ाई करनी चाहिए, जिससे मन से डर निकल जाए। इसलिए उन्हें किताबी ज्ञान से ऊपर उठकर इस प्रकार की प्रतियोगिताओं में बढ़-चढ़कर भाग लेना चाहिए, तभी उनके अंदर छिपी प्रतिभा निखर कर आ सकती है। इससे विषय पर पकड़ मजबूत बनती है। प्रतियोगिताएं ही किसी भी प्रतिस्पर्धा में भाग लेने का सर्वश्रेष्ठ तरीका है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप