संवाद सूत्र, उचाना : रजवाहा रोड पर कृषि विभाग कार्यालय में किसानों ने जमकर नारेबाजी की। किसान बारिश से फसल को नुकसान के फार्म जमा करवाने आए थे। फार्म जमा न होने पर बुधवार को किसानों ने रोष प्रकट किया। विभाग के कर्मचारियों का कहना था कि बारिश के 48 घंटे बाद फार्म किसान जमा करवा सकते हैं। जो किसान फार्म जमा करवा रहे है वहां बारिश को हुए 48 घंटे से ज्यादा हो गए हैं। जो नियम हैं उनके अनुसार फार्म नहीं ले सकते है। संदीप, सुलतान, बलजीत, रामकुमार, सतीश ने कहा कि बारिश का पानी खेतों में भरने, तेज हवा से फसल को नुकसान है। फसल का बीमा होने के बाद भी उनके फार्म जमा नहीं किए जा रहे है। फार्म जमा करने को लेकर जो नियम है उसको लेकर किसानों को पता नहीं है। पहले बैंक से स्टेटमेंट लेकर आनी पड़ती है। उपमंडल कार्यालय में फर्द भी कई दिनों में मिलती है। ऐसे में किसान फार्म कब जमा करवाए। विभाग को चाहिए था कि वो नियमों के बारे में किसानों को बताते। किसानों को नियमों का पता नहीं है। ऐसे में जो कागजात विभाग मांगता है वो कागजात लेकर किसान कार्यालय पहुंच रहे हैं।

बीमा कंपनी का नियम: खटकड़

खंड कृषि अधिकारी डॉ. रमेश खटकड़ ने कहा कि सभी किसानों के फार्म ले लिए गए है। बीमा कंपनी का नियम है कि बारिश के 48 घंटे के बाद फार्म जमा करवाना होता है।

Posted By: Jagran