संवाद सूत्र, जुलाना: जींद-रोहतक मार्ग पर स्थित नई अनाज मंडी में किसानों की हरियाणा स्वाभिमान महापंचायत हुई। पंचायत की अध्यक्षता नंदगढ़ बाराहा खाप के प्रधान होशियार सिंह दलाल और लाठर बाराहा खाप के प्रधान राजमल जेई ने की। पंचायत में किसान नेता रमेश दलाल ने कहा कि सरकार किसानों की मांगों की ओर कोई ध्यान नही दे रही है। उन्होंने कहा कि अगर सरकार 13 अगस्त तक किसानों की मांगें नहीं मानती है तो 14 अगस्त को किसान फिर से पंजाब जाने वाली ट्रेने रोकेंगे। नारा दिया कि हरियाणा अब झुकेगा नहीं और आंदोलन अब रूकेगा नहीं।

रमेश ने कहा कि किसानों को इससे पहले भी 36 लाख से बढ़ाकर मुआवजा एक करोड़ 11 लाख रुपये दिलवाया गया है। किसानों को सरकार झुकानी भी आती है और अपनी बात भी मनवानी आती है। आंदोलन के माध्यम से किसान रेल रोकने की धमकी नही दे रहे हैं बल्कि अपनी मांगों को मनवा रहे हैं। एक ओर तो सरकार किसानों को सम्मान देने की बात कर रही है, वहीं दूसरी तरफ फसल का सही मूल्य नहीं दे रही है।

किसानों की यह मुख्य मांगें

उन्होंने कहा कि एसवाईएल का पानी प्रदेश के किसानों को मिलना चाहिए। धान का मूल्य 1800 से बढ़ाकर 3000 रुपये प्रति क्विंटल और कपास का मूल्य 5000 प्रति क्विंटल के हिसाब से मिलना चाहिए। नेशनल हाईवे 152 डी का मुआवजा मार्केट रेट के हिसाब से मिले। दिल्ली के तीन तरफ प्रदेश होने के बावजूद भी मेट्रो रेल नही चलाई गई है। हरियाणा में 12 मेट्रो होनी चाहिए। मेट्रो का विस्तार हरियाणा के सोनीपत, सांपला और पलवल तक किया जाए। जींद से 12 किलोमीटर की दूरी पर जब सबडिविजन बनाई गया है तो जुलाना को भी उपमंडल बनाया जाए। झज्जर जिले में एक ड्रेन पूरी बनाकर 10 एकड़ छोड़ी गई है जिससे 13 गांवों के किसानों की हर साल पकी हुई फसल खराब हो जाती है। इस ड्रेन को पूरा किया जाए। जाखोदा गांव में किसानों को जो मुआवजा दिया गया था उसकी रिकवरी शुरू कर दी। सरकार किसानों से 35 करोड़ रुपये वसूल करना चाहती है जो किसान किसी भी हालत में बर्दाश्त नहीं करेंगे। राष्ट्रीय राजमार्ग के मुआवजे लंबित है जो कि 15 साल से पड़े हैं। जो कि किसानों के साथ विश्वासघात हो रहा है।

खिलाड़ियों के साथ हो रहा भेदभाव

रमेश ने कहा कि चुनाव में वोट लेने के लिए मुख्यमंत्री ने घोषणा की है कि पूर्व सरपंच, पूर्व जिला परिषद के सदस्य और पूर्व चेयरमैन को पेंशन दी जाएगी। किसानों की मांग है कि पूर्व पंचों को भी पेंशन दी जानी चाहिए। प्रदेश में खिलाड़ियों के साथ भेदभाव हो रहा है। उन्हे समय पर जीत की राशि भी समय पर नहीं दी जा रही। अगर देश से नशे को उखाड़ना है तो खेलों को बढ़ावा देना होगा। अपनी डयूटी दे रहे एएसआइ कुलदीप की रेल दुर्घटना में मौत हो गई। उसके परिजनों को एक करोड़ रूपये और एक सरकारी नौकरी दी जाए। इसी तरह फोर्स को देख कर सिरसा खेड़ी के किसान सुरेंद्र की दहशत मानने से मौत हो गई। किसानों की मांग है कि उसके परिजनों को एक करोड़ रुपये मुआवजा राशि और एक बच्चे को सरकारी नौकरी दी जाए। इस मौके पर महिलाओं सहित सैकड़ों किसान मौजूद रहे।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस