संवाद सहयोगी, अलेवा: नगूरां पीएचसी की घोषणा के करीब चार साल बाद भी नगूरां पीएचसी पर कर्मचारियों के पद खाली पड़े हैं। इस कारण नगूरां तथा आसपास के गांव लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

नगूरां गांव के संदीप, विकास, हवा सिंह, जगबीर, राकेश, सुरेंद्र आदि ने बताया कि सीएम मनोहर लाल ने फरवरी 2017 में नगूरां पीएचसी तथा अलेवा सीएचसी के निमरण की घोषणा के साथ स्टाफ की कमी को पूरा करने के निर्देश अधिकारियों को दिए थे। तब लोगों को स्वास्थ्य सेवाओं का लाभ मिलने की उम्मीद जगी थी। सीएम की घोषणा के बाद नगूरां व अलेवा गांव में पीएचसी तथा सीएचसी का निर्माण तो हो गया, लेकिन नगूरां पीएचसी स्टाफ में स्टाफ की नियुक्ति नहीं हुई है। नगूरां पीएचसी पर एक मेडिकल ऑफिसर मेल, एक महिला, एक दंत चिकित्सक, एक फार्मासिस्ट, दो स्टाफ नर्स, एक लैब टेक्निशियन, एक महिला सुपरवाइजर के अलावा एक पुरुष सुपरवाइजर तथा तीन आउटसोर्स कर्मचारियों के पद भरने की स्वीकृति प्रदान की थी, लेकिन चार साल बीतने के बावजूद भी स्वास्थ्य विभाग ने अभी तक नगूरां पीएचसी में दंत चिकित्सक, एक पुरुष मेडिकल ऑफिसर, लैब टेक्निशियन, महिला सुपरवाइजर, स्टाफ नर्स की नियुक्ति नहीं हो पाई है। नगूरां पीएचसी पर स्टाफ की कमी के चलते ज्यादातर काम आउटसोर्स कर्मचारियों से लिया जा रहा है। इस कारण लोगों को स्वास्थ्य से संबंधित अनेक कामों के लिए काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

------

जहां हमें छोड़ा, आज भी वहीं हैं हम: सरपंच

सरपंच जसवंत ने कहा कि सीएम की घोषणा के बाद नगूरां पीएचसी के निर्माण के बाद स्टाफ के मामले में कुछ नहीं बदला है। लोगों को आज भी पीएचसी पर घोषणा के अनुरूप स्वास्थ्य सेवाएं लोगों को उपलब्ध नहीं हो रही है। इसके लिए जल्द पंचायत मुख्यमंत्री से मिलेगी।

--

स्टाफ की कमी को लेकर स्वास्थ्य विभाग को लिखा पत्र-एसएमओ

सीएचसी अलेवा प्रभारी डॉ. चांदबाला चहल ने बताया कि पीएचसी नगूरां पर स्टाफ की कमी से स्वास्थ्य सेवाएं मिलने में लोगों को कुछ दिक्कत आ रही है। नगूरां पीएचसी पर एक मेडिकल ऑफिसर मेल, एक दंत चिकित्सक, दो स्टाफ नर्स, एक लैब टेक्निशियन, एक महिला सुपरवाइजर के पद खाली हैं। स्टाफ की कमी को पूरा करने के लिए स्वास्थ्य विभाग के उच्च अधिकारियों को पत्र लिखा हुआ है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप