संवाद सूत्र, नरवाना : 20 अक्टूबर की रात्रि को नागरिक अस्पताल परिसर में की तोड़फोड़ और कर्मचारियों के साथ मारपीट करने के विरोध में स्टाफ नर्स और आउटसोर्सिंग कर्मचारियों ने अस्पताल परिसर में धरना दिया और कर्मचारियों की सुरक्षा को लेकर मांग की। स्टाफ नर्स व अन्य कर्मचारियों का कहना है कि पहले भी डॉक्टरों व उनके साथ मरीजों के परिजनों द्वारा हाथापाई की घटना सामने आ चुकी हैं। जिससे उनका रात्रि को ड्यूटी करना मुश्किल हो गया है। उन्होंने कहा कि मरीज के परिजन कई बार अपना आपा खो देते हैं, जिससे उनको उनके गुस्सा का कोपभाजन बनना पड़ता है। उन्होंने कहा कि रात के समय कोई भी कर्मचारी ड्यूटी करने से डरने लगा है। उन्होंने कहा कि तोड़फोड़ की घटना के कारण कर्मचारियों में दहशत का माहौल पैदा हो गया है। जब तक रात के समय कोई सुरक्षा उपलब्ध नहीं होगी, तो वे ड्यूटी नहीं करेगी। अस्पताल में कर्मचारियों द्वारा धरने पर बैठने की सूचना मिलते ही शहर थाना प्रभारी यादराम मौके पर पहुंचे और उन्होंने स्टाफ नर्स व अन्य कर्मचारियो को समझाने की कोशिश की, लेकिन कर्मचारी सुरक्षा की मांग पर अड़े रहे। एसएचओ यादराम ने कहा कि कर्मचारियों की मांग जायज है, इसलिए उनकी बातों को अनसुना नहीं किया जाएगा। अस्पताल के कर्मचारियों ने कहा कि शाम के 7 बजे से सुबह 7 बजे तक पुलिस कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई जाए, ताकि वे सही ढंग से ड्यूटी कर सके। एसएचओ ने कहा कि रात के समय 2 पुलिस कर्मचारियों को ड्यूटी पर भेज दिया जाएगा, कर्मचारियो को कोई भी परेशानी नहीं होने दी जाएगी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप