सफीदों (विज्ञप्ति) : गांव रामपुरा स्थित बीएसएम स्कूल में संस्कृति मंत्रालय के तत्वावधान में अखिल भारतीय सुमित्रा माता ग्रामीण विकास संस्था द्वारा नाटक का मंचन किया गया। नाटक का शीर्षक गांव की करप्ट सरकार रहा। कार्यक्रम में मुख्यातिथि के रूप में बीएसएम स्कूल के चेयरमैन अरुण खर्ब ने शिरकत की। नाटक का निर्देशन आनंद प्रकाश ने किया व कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्था के सचिव विजय कुमार ने की। नाटक में दिखाया गया कि किस प्रकार एक पढ़ी लिखी महिला शादी कर गांव बहू बन कर आती है और किस प्रकार गांव में विकास कार्यों में भ्रष्टाचार का पर्दाफाश करती है। पढ़ी लिखी बहू गांव के विकास कार्यों में भ्रष्टाचार होने पर निगरानी कमेटी के पास जाती है तो निगरानी कमेटी के सदस्य उसको कहते हैं कि उसके हाथ तो सरपंच ने उनके हस्ताक्षर ले रखे हैं वो मजबूर हैं। जिसके बाद बहू एक आरटीआइ लगाती है जिसका जवाब उसको तीन महीने तक नहीं मिलता है। पढ़ी लिखी बहू गांव में हो रहे भ्रष्टाचार की शिकायत डीसी से करती है जिसपर कार्यवाही करते हुए डीसी द्वारा एसडीएम की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन कर देते हैं। कमेटी को गांव में किए गए विकास कार्यों में भ्रष्टाचार मिलता है जिसके बाद प्रशासन द्वारा गांव के सरपंच व सचिव को निलंबित कर दिया जाता है। गांव की पढ़ी लिखी बहू को सर्वसम्मति से गांव का सरपंच बना दिया जाता है और प्रशासन द्वारा सम्मानित किया जाता है। नाटक में रवि शंकर, गौतम सत्यराज, दीपक आर्य, राहुल चौहान, लविका, अंजू शर्मा, नीरू शर्मा, कुसुम, सुषमा, मनीषा, दीपक, प्रदीप, अनिल कुमार, मोनू, संजय, चेतन, सोनू ने मुख्य भूमिका निभाई।

Edited By: Jagran