जागरण संवाददाता, जींद : शहर के बाद अब ग्रामीण क्षेत्र में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ने लगे हैं। तीसरी लहर की शुरुआत में केवल शहरी एरिया में केस मिल रहे थे। अब शहरी एरिया में केसों में कमी आई तो गांव में बढ़ने लगे हैं। जिले में 919 सक्रिय केसों में से 462 ग्रामीण व 457 शहरी एरिया में हैं। इसके अलावा कोरोना की दूसरी लहर के मुकाबले संक्रमित दर तीन प्रतिशत ज्यादा है। दूसरी लहर में 16 हजार 141 केस 6.20 की दर से मिले थे, लेकिन तीसरी लहर में अब तक मिले 1816 केसों में संक्रमण दर 9.20 है। जबकि 49.7 की दर से अबतक 893 लोग कोरोना को मात देकर स्वस्थ हो चुके हैं। रविवार को 789 सैंपलों की रिपोर्ट में 104 नए कोरोना के केस मिले हैं। इसमें से 17 अकेले जिला जेल के बंदी हैं। बंदियों के संक्रमित मिलने पर जेल के सभी बंदियों व कैदियों के सैंपल लेने के आदेश दिए गए हैं। इसके अलावा सिविल अस्पताल नरवाना कर्मी, एक शुगर मिल का, अदालत नरवाना का एक, डीसी कार्यालय का एक, सफीदों अदालत का एक, एक सिविल अस्पताल जींद कर्मी, एक सीएचसी उझाना शामिल हैं। स्वास्थ्य अधिकारियों का मनाना है कि आने वाले दिनों में संक्रमण केसों में कमी आएगी। रविवार को 64 लोग कोरोना को मात देकर ठीक हुए हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा 1429 लोगों को निगरानी में रखा गया है। रविवार को विभाग द्वारा 476 सैंपल लेकर जांच के लिए लैब भेजे गए हैं। अबतक विभाग चार लाख 28 हजार 301 लोगों के सैंपल ले चुका है। जिनमें से 23 हजार 26 लोग कोरोना संक्रमित पाए गए हैं। जबकि 540 लोगों की मौत हुई है। 21 हजार 567 लोग कोरोना को मात देकर ठीक हुए हैं। विभाग को 476 लोगों की रिपोर्ट का इंतजार है।

अब तक 428301 लोगों के हुए सैंपल

पहली व दूसरी लहर के मुकाबले अब सैंपल लेने की रफ्तार काफी धीमी है। अब तक के कोरोना काल में चार लाख 28 हजार 301 लोगों के सैंपल हुए हैं। इसमें पहली लहर में एक लाख 48 हजार 381 सैंपल हुए है। जबकि दूसरी लहर में दो लाख 60 हजार 185 हुए थे। जबकि तीसरी लहर में अब तक 19 हजार 735 लोगों के सैंपल हुए है। मुख्यालय से प्रतिदिन दो हजार से ज्यादा सैंपल लेने का लक्ष्य दिया गया है, लेकिन जिले में प्रतिदिन एक हजार के आसपास ही सैंपल हो रहे हैं। शनिवार व रविवार को तो यह आंकड़ा पांच सौ के करीब रह जाता है।

जिले में 417 लोगों को ही लगी वैक्सीन

जिले में वैक्सीनेशन की रफ्तार फिर से ढील पड़ गई है। रविवार चले अभियान के दौरान मात्र 417 लोगों को वैक्सीन लगी। इसमें से 138 लोगों ने पहली व 277 लोगों ने दूसरी डोज लगवाई। इसके अलावा 15 से 18 आयु वर्ग के सात किशोरों ने वैक्सीन लगवाई। जबकि सर्तकता डोज एक भी नहीं लगी। जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा. नवनीत ने बताया कि अब तक आठ लाख 87 हजार 54 लोगों ने पहली डोज व छह लाख 93 हजार 313 लोग दूसरी डोज लगवा चुके हैं। जबकि 1470 कर्मचारियों ने सतर्कता डोज लगवाई है। 15 से 18 आयु वर्ग में 33 हजार 865 किशोरों ने पहली डोज लगवाई है। वैक्सीनेशन के अभियान में तेजी लाई जाएगी। स्वास्थ्य कर्मियों व फ्रंट लाइन कर्मचारियों को भी सतर्कता डोज लगवाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है।

Edited By: Jagran