जागरण संवाददाता, जींद : दैनिक जागरण के पराली अभियान के तहत सरपंचों व नंबरदारों के घरों पर पोस्टर लगाए गए। घोघड़ियां गांव के सरपंच प्रतिनिधि रणधीर बूरा ने अपने घर के बाहर पराली नहीं जलाएंगे पर्यावरण बचाएंगे का पोस्टर चस्पा करते हुए किसानों को पराली नहीं जलाने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि दैनिक जागरण ने ये अच्छी पहल शुरू की है। लगातार बढ़ता प्रदूषण का स्तर चिता का विषय है। जिसके आने वाले समय में गंभीर परिणाम आ सकते हैं। इसलिए हर आदमी का पर्यावरण संरक्षण का कर्तव्य बनता है। पराली जलाना कोई समाधान नहीं है। पराली को हरे चारे के रूप में प्रयोग करें। धान कटाई के बाद जो फसल अवशेष बचते हैं। उन्हें काट कर खेत में मिलाएं या हैप्पी सीडर से सीधे गेहूं की बिजाई करें। इससे फसल अवशेष कुछ दिनों में गल कर खाद के रूप में काम करेगा। दैनिक जागरण द्वारा पराली ना जलाने को लेकर किसानों को जागरूक किया जा रहा है। इसके लिए गांवों में सेमिनार व चौपाल आयोजित की जा रही हैं। इसी कड़ी में सरपंचों व नंबरदारों के घरों पर जागरूकता को लेकर पोस्टर लगाए जा रहे हैं।

---------------

अमीर-गरीब सबको चाहिए ऑक्सीजन

नंबरदार एसोसिएशन के उचाना ब्लॉक प्रधान मंजीत ने अपने घर के बाहर पोस्टर चस्पा करते हुए कहा कि अब सबको जागरूक होने की जरूरत है। ये नहीं सोचना चाहिए कि पर्यावरण संरक्षण की अकेले प्रशासन की जिम्मेदारी है। अमीर हो या गरीब, सबको जिदा रहने के लिए ऑक्सीजन की जरूरत है। पिछले सप्ताह जींद जिले में प्रदूषण का स्तर बहुत ज्यादा बढ़ गया था, जिसमें घर के अंदर भी सांस लेने में दिक्कत आ रही थी। बढ़ते प्रदूषण के लिए सब अपनी जिम्मेदारी निभाएं। किसान पराली ना जलाएं। अपने घर का कूड़ा ना जलाएं। पॉलीथिन का प्रयोग करने से बचें।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप