जागरण संवाददाता, जींद : बाजार में रविवार को दुकानें खोले जाने को लेकर व्यापार मंडलों के दो गुटों में तनातनी हो गई। दोनों ही व्यापार मंडलों के प्रतिनिधि शहर थाना पहुंच गए और प्रभारी रोहताश ढुल के समक्ष अपनी-अपनी समस्याएं रखने लगे। एक-एक कर थाना में व्यापारी एकत्रित होने लगे तो शारीरिक दूरी की धज्जियां उड़ने लगी। हालांकि बीच-बीच में थाना प्रभारी द्वारा शारीरिक दूरी अपनाने की बात की जाती रही। लगभग एक घंटे की जद्दोजहद के बाद पुलिस के हस्तक्षेप से मामला सुलझ गया। दोनों पक्षों ने निर्णय लिया कि प्रत्येक रविवार को दुकानें बंद रखी जाएंगी। इसी बीच डीसी की ओर से भी मौके पर मैसेज आया कि बाजार खोलने को लेकर नई गाइडलाइन आ जाएगी और इस बारे में व्यापारियों को अवगत करवा दिया जाएगा।

यह है मामला

गत 27 मई को जिला प्रशासन ने लॉकडाउन के तहत मिली हिदायतों के तहत दुकानदारों को लेफ्ट-राइट फार्मूले के तहत रविवार को भी दुकानें खोलने की मंजूरी दे दी थी। इसके बाद जींद व्यापार मंडल के बैनर नीचे 28 ट्रेड यूनियनों के प्रतिनिधियों ने दो दिन पहले रविवार को दुकानें बंद रखने का फैसला लिया था। बाकायदा इसकी सूचना डीसी डा. आदित्य दहिया को भी सौंपी गई थी। व्यापारी प्रतिनिधियों ने कहा था कि रविवार को ग्राहक नहीं होता है और जो शनिवार को दुकान को खोलेगा वह सोमवार को भी खोलेगा। इससे लेफ्ट राइट फार्मूले के तहत सिस्टम गड़बड़ा जाएगा। इस तर्क पर डीसी ने भी यह हामी भर दी थी कि यदि सभी व्यापारी रविवार को एक मत हैं तो दुकानें बंद रख सकते हैं।

रविवार को खुली दुकानें तो बढ़ गया दुकानदारों में रोष

रविवार को कुछ दुकानदारों ने बाजार में अपनी दुकानों को खोल लिया तो दुकानदारों में रोष बढ़ गया। जिस पर जींद व्यापार मंडल के अनिल अग्रवाल, राजू लखीना, सुनील वशिष्ठ सहित अन्य व्यापारी नेता मौके पर पहुंच गए और दुकानदारों से अपनी-अपनी दुकानें बंद करने को कहा। इसी बीच हरियाणा व्यापार मंडल से जुड़े दूसरे गुट के नेता ईश्वर बंसल व महावीर कंप्यूटर भी मौके पर पहुंच गए। दोनों गुटों के नेताओं की रविवार को दुकानें बंद करने के मुद्दे पर तनातनी भी हुई। इसी बीच पुलिस भी मौके पर पहुंच गई। शहर थाना प्रभारी रोहताश ढुल ने माइक पर ऐलान कर दिया कि लेफ्ट-राइट फार्मूले के तहत रविवार को वह दुकानदार अपनी दुकान खोल सकता है जिसकी शुक्रवार को बारी थी। इस पर व्यापारी नेताओं अनिल अग्रवाल व राजू लखीना ने विरोध किया और बताया कि डीसी के समक्ष रविवार दुकानें बंद रखने का फैसला हुआ था। ऐसे में पुलिस को ऐसा नहीं करना चाहिए। इस पर दूसरे गुट ने प्रतिवाद करते हुए शहर थाना प्रभारी द्वारा की गई अनाउंसमेंट को सही ठहरा दिया।

दुकान पर आने वाले का मास्क उतार कैमरे में पिक लें: ढुल

शहर थाना प्रभारी रोहताश ढुल ने कहा कि दुकान पर मास्क लगाने वाले का दुकानदार मास्क उतार कर देखें और एक बार अपने पास लगे सीसीटीवी कैमरे में पिक कैद जरूर करें ताकि कोई भी अप्रिय घटना घटती हो तो ऐसे अपराधी के पास कैमरे में आई फोटो की सहायता से उन्हें पकड़ा जा सके। इस प्रकार मास्क लगा कर अपराधी संस्थान में घटना को अंजाम दे सकते हैं। ऐसे में सभी संस्थान व दुकानदारों को चाहिए कि वह सीसीटीवी कैमरे जरूर लगाएं। जिन्होंने लगा रखे है वह उन्हें चलती अवस्था में जरूर रखें। मास्क लगे होने से अपराधी की पहचान नही हो पाती इसलिए ध्यान रखें व शारीरिक दूरी जरूर बनाए रखें।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस