जागरण संवाददाता, झज्जर : उपायुक्त सोनल गोयल के मार्ग दर्शन में नागरिक अस्पताल स्थित प्रशिक्षण केंद्र में खसरा और रुबेला रोगों से बचाव को लेकर कार्यशाला का आयोजन किया गया। जिसमें विभिन्न सरकारी विभागों के अलावा कई संगठनों के पदाधिकारियों ने भाग लिया। कार्यवाहक सिविल सर्जन डा.टीएस बागड़ी ने कार्यशाला का उद्घाटन करते हुए कहा कि रुबेला और खसरा जैसी बीमारियों की रोकथाम को लेकर भारत सरकार द्वारा टीकाकरण अभियान की शुरूआत की गई। इस अभियान को सफल बनाना हम सबकी जिम्मेदारी है। उन्होंने कहा कि इस अभियान के तहत 9 माह से 15 साल तक के बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा,जिसमें स्वास्थ्य विभाग के साथ-साथ महिला एवं बाल विकास,शिक्षा विभाग के सहयोग से यह कार्यक्रम चलेगा। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा कार्यशाला आयोजित करने का एक मात्र मकसद है कि अभियान से जुडे अधिकारियों व अन्य स्वास्थ्य संगठनों को इस बारे जानकारी देने के अलावा हर व्यक्ति को जागरूक किया जाए।

इस बीच जिला प्रतिरक्षण अधिकारी डा.सुभाष चंद्र ने मुख्य अतिथि डा.टीएस बागडी का स्वागत किया। उन्होंने बताया कि वर्कशाप का आयोजन विश्व स्वास्थ्य संगठन के तत्वावधान में किया जा रहा है। उन्होंने मिजल रुबेला वैक्सीन के बारे में विस्तार से जानकारी दी। डिप्टी सिविल सर्जन ने बताया कि रुबेला जैसी भयानक बीमारी महिलाओं के गर्भ में विकसित हो रहे भू्रण में विसंगतियां भी पैदा कर सकती है। यह जन्मजात रुबेला ¨सड्रोम उन महिलाओं के बच्चों में होने की संभावना ज्यादा होती है,जो गर्भावस्था के पहले तीन महीनों के दौरान इससे संक्रमित हुई हों। इस अवसर पर चिकित्सा अधिकारी डा. विकास,उप सिविल सर्जन डा. कुलदीप ¨सह ने भी खसरा और रुबेला रोग से बचाव संबंधी जानकारी दी।

Posted By: Jagran