जागरण संवाददाता, झज्जर : स्थानीय लाल ¨सह कालोनी में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने लड़का होने की शर्तिया दवा देने के आरोप में एक महिला को काबू किया है। यह महिला दवा देने की एवज में ढाई हजार रुपये वसूला करती थी और दवा देने से पूर्व मकान में ही बनाए हुए मंदिर में पूजा-अर्चना करवा कर बरगलाती थी।

मूलरूप से गांव दुल्हेड़ा की रहने वाली यह आरोपित महिला पिछले आठ वर्षो से कालोनी में किराए के मकान में अपने परिवार सहित रह रही थी। महिला के साथ परिवार में उसका एक पुत्र, पुत्र वधू और तीन पोते भी रहते हैं। मुहल्ला निवासियों को भी इस बात का खास पता नहीं था कि यह महिला दवा देने का कार्य भी करती है। इसका बेटा चालक है और किराये पर गाड़ी चलाने का कार्य करता है। वहीं, इसी मामले में पोलियो रोधी दवा पिलाने वाली एक महिला का नाम सामने आने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम भी हैरानी में है कि सरकार, विभाग और प्रशासन की सख्ती के बाद भी स्वास्थ्य विभाग से जुड़े कर्मचारी की इसमें संलिप्तता की बात सामने आ रही है। यह है मामला

स्वास्थ्य विभाग की टीम को पिछले तीन-चार दिनों से सूचना मिल रही थी कि महेंद्री पत्नी ओमप्रकाश निवासी दुल्हेड़ा लाल ¨सह कालोनी में एक मकान में किराए पर रहती है और लड़का होने की शर्तिया दवा देती है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बुधवार दोपहर बाद फर्जी ग्राहक को महिला के पास दवा लेने के लिए भेजा। महिला ने फर्जी ग्राहक से ढाई हजार रुपये लिए और दवा बना कर दे दी। इतने में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने रेड की और उक्त महिला को ढाई हजार रुपये और लड़का देने की दवा सहित काबू कर लिया। दवा देने के दौरान कराती थी पूजा- अर्चना

आरोपित महिला ने मकान में ही एक मंदिर बना रखा है। दवाई देने के दौरान वह पहले दवा लेने आने वाले लोगों को मंदिर में पूजा पाठ करवाती थी। दवा देने के बाद भी महिला यह भी कहती थी कि लड़का होने के बाद वह दोबारा मंदिर में मत्था टेकने के लिए जरूर आना और प्रसाद लेकर भी जाना।

डिप्टी सीएमओ राकेश ने बताया कि आरोपित महिला ने फोन पर की गई बात से सामने आ रहा है कि महिला ने कई लोगों को लड़का होने की दवा दे रखी है। फोन पर महिला ने जिन लोगों के नाम बताएं हुए है, वहां पुष्टि की जा रही है कि वह कैसे इसके संपर्क में आए और इसने क्या-क्या करवाया। ये रहे टीम में शामिल

छापामार कार्रवाई में डिप्टी सिविल सर्जन डा.राकेश कुमार, डा. सरिता गोरी, डा. प्रवीन सोलंकी, नवीन, विनोद, सतीश शामिल रहे।

---------------

लाल ¨सह कालोनी में लड़का होने की दवा देने की सूचना पिछले कई दिनों से मिल रही थी। विभाग की टीम द्वारा सिविल सर्जन के दिशा-निर्देशानुसार फर्जी ग्राहक बनाकर महिला के पास भेजा गया। आरोपित महिला ने दवा देने की एवज में ढाई हजार रुपये देने की मांग की। बाद में विभाग की टीम ने रेड करते हुए उक्त महिला को काबू किया। आरोपित महिला के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करवा दी गई है।

राकेश कुमार डिप्टी सिविल सर्जन, झज्जर।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप