संजय थरान, झज्जर : करीब पांच हजार की आबादी वाले इस वार्ड में नालों की व्यवस्था खराब होने से लोग आजिज आ चुके है। कारण कि पेयजल सप्लाई के लिए निकाले गए एक नाले को बंद करने के बाद अब यह गंदगी का बड़ा कारण बन गया है। साथ ही वार्ड के कुछ क्षेत्रों में बिजली के पोल तो है, लेकिन स्ट्रीट लाइट की व्यवस्था नहीं है। कुछ स्थानों पर तो पेड़ों आदि से बिजली की तारों को बांधने की व्यवस्था की गई है। डंपिग केंद्र की समस्या सहित साफ पानी नहीं मिल पाना भी इन्हें अखर रहा है। दैनिक जागरण की तरफ से भी प्रयास किए जा रहे हैं कि शहर किस प्रकार से स्वच्छ हो और किन स्थानों पर किस प्रकार के हालात हैं। कहां पर सुधार की आवश्यकता है। इसके लिए सभी वार्डों में जाकर वहां के हालात जानने का प्रयास शुरू किया है। ताकि लोगों की समस्याओं का निदान हो सके। बॉक्स : वार्ड के कोसली रोड बाइपास के पास नगर पालिका की तरफ से बनाया गया डंपिग केंद्र लोगों के लिए परेशानी का सबब बना हुआ है। जिसके लिए शिकायत करने के बाद भी समस्या का समाधान नहीं हो रहा है। शहर से निकलने वाले कूड़े को नगरपालिका की तरफ से एकत्रित कर यहां से डंपर व ट्रालियों में भरकर डंपिग केंद्र के पास डाला जाता है। जिससे वातावरण भी दूषित हो रहा है। बॉक्स :

वार्ड की स्थिति :

वार्ड नंबर : 17

पार्षद : सविता

वार्ड की जनसंख्या : करीब 5000

वार्ड में वोट : 1800

वार्ड कालोनियां : आर्य नगर, किला कालोनी व मॉडल टाउन क्षेत्र आता है।

दैनिक जागरण के सुझाव :

- हर गली में छोटे व मुख्य स्थानों पर छोटे कूड़ादान रखवाने चाहिए।

- सफाई कर्मचारियों को नियमित रूप से चैक किया जाए।

- वार्डों में एरिया के हिसाब से नियुक्ति की जानी चाहिए।

- लोगों को जागरूक करने के लिए निरंतर अभियान चलाने चाहिए।

- सीवर लाइनों की सफाई नियमित तौर पर होनी चाहिए।

- नालों की सफाई के एक माह में एक बार होनी चाहिए।

- सबसे जरूरी, पॉलीथिन का इस्तेमाल बंद हो और उसे किसी भी सूरत में नालियों में नहीं डाला जाए

- डंपिग प्वाइटों पर हर रोज कूड़े को उठाने की व्यवस्था होनी चाहिए।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप