फोटो : 5

जागरण संवाददाता, झज्जर :

सरकार ने शनिवार को आम बजट पेश किया। बजट में आय कर दाताओं को राहत दी गई है, जिसकी हर वर्ग सराहना कर रहा है। सरकार द्वारा 5 से 10 लाख रुपये तक आय कर की दर घटाई गई है। इसका सबसे आयकर स्तर में सबसे अधिक मध्यम वर्ग आता है। इसलिए लोगों को सीधा व्यक्तिगत लाभ होगा। व्यापारी हो या गृहिणी सभी वर्गो ने बजट को राहत भरा बताया। उन्होंने कहा कि आम लोगों को ध्यान में रखते हुए बजट जारी किया गया है। जिससे सबसे अधिक राहत को आयकर की दरों में कटौती से मिलेगी। व्यापारी एडवोकेट मानक चंद गुप्ता ने कहा कि बजट से आम आदमी को राहत मिली है। बजट को राहत भरा इसलिए भी कहा जा सकता है कि आयकर की दरों में कटौती करने का काम किया है। सरकार द्वारा बजट में आम जनता पर अतिरिक्त बोझ भी नहीं बढ़ाया गया है। जिस कारण बजट का लाभ अधिक होगा। - अग्रसेन ट्रस्ट के प्रधान एवं व्यापारी महेंद्र बंसल ने बताया कि बजट राहत भरा रहा है। जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को विकास के लिए अलग से फंड देकर मुख्य धारा से जोड़ने का काम किया है। अब तक वहां की आम जनता को बजट का लाभ नहीं मिल पाता था। वहीं अनुसूचित जाति व पिछड़ा वर्ग के लिए भी बजट में लाभ दिया है। सरकार इस वर्ग के जरूरतमंदों तक बजट के लाभ को पहुंचाने का प्रयास करे। - पुनीत ने कहा कि बजट में लोगों को सबसे अधिक राहत आयकर की दर घटाकर दी है। अधिकतर लोग इससे प्रभावित होंगे। सरकार ने छोटे व्यापारियों को राहत देने का काम किया है। अधिकतर छोटे व्यापारी व दुकानदार भी 10 लाख रुपये से कम आय वाले भी हैं। सरकार ने सभी वर्गो को ध्यान में रखते हुए बजट जारी किया है। - सेवानिवृत्त प्रिसिपल आजाद सिंह दूहन ने बताया कि आयकर की दरों में कमी का लाभ नौकरी-पेशा वालों को होगा। साथ ही पेंशनर भी इस लाभ के दायरे में आएंगे। आयकर की दरों में कमी से उन्हें स्वयं को भी फायदा होगा। उन जैसे अनेक लोग हैं, जिन्हें इसका लाभ मिलेगा। - अध्यापिका चारू सरदाना ने कहा कि बजट महिलाओं के लिए भी अच्छा है। सरकार ने महिलाओं के लिए अलग से बजट जारी किया है। अगर महिलाएं आगे बढ़ेगी तो देश भी आगे बढ़ेगा। सरकार ने महिलाओं के लिए बजट में जो राहत दी है उसे कम नहीं कहा जा सकता। - गृहिणी शकुंतला बिरला ने कहा कि इस बार सरकार ने स्वास्थ्य पर फोकस किया है। इसका प्रत्येक वर्ग को लाभ मिलेगा। अगर लोग स्वस्थ होंगे तो देश पर आर्थिक बोझ भी कम होगा। महिलाओं के स्वास्थ्य पर अधिक ध्यान दिया गया है। बजट में लोगों को समय पर स्वास्थ्य सुविधाएं देने के लिए प्रावधान करना अच्छा कदम है। - गृहिणी सुनीता मिगलानी ने कहा कि सरकार ने बजट में शिक्षा को सुधार की बात कही है। इससे बच्चों को बेहतर शिक्षा मिलेगी। शिक्षा पर जो भी रुपये खर्च होंगे उसका लाभ तो देश के भविष्य को संवारने में ही लगेगा। बजट में महिलाओं व स्वास्थ्य को ध्यान में रखना भी अच्छा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस