झज्जर (विज्ञप्ति) : डीसी श्याम लाल पूनिया ने बताया कि सरकार ने एकीकृत बागवानी विकास मिशन को बढ़ावा देने के लिए प्याज की खेती करने पर आठ हजार रुपये प्रति एकड़ किसान को अनुदान के रूप में दिए जाने का प्रावधान किया है। जिला में ज्यादा से ज्यादा किसान प्याज की खेती कर इस योजना का लाभ उठाएं। अनुदान का लाभ लेने के लिए किसान को होर्टनेट पोर्टल पर पंजीकरण करवाना होगा। एकीकृत बागवानी विकास मिशन के तहत किसानों को खरीफ प्याज की खेती के लिए अनुदान योजना लागू की गई है। उन्होंने बताया कि एक किसान अधिकतम पांच एकड़ तक योजना के तहत अनुदान राशि को प्राप्त कर सकता है।

डीसी पूनिया ने कहा कि योजना के अनुसार अनुदान राशि सीधे किसान के बैंक खाते में जाएगी। पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर योजना का लाभ दिया जाएगा। किसानों की आय दोगुना करने की दिशा में सरकार का यह एक और सराहनीय कदम है। योजना का लाभ प्राप्त करने के इच्छुक किसान होर्टनेट पोर्टल पर खेती के क्षेत्र को दर्ज करते हुए अपना पंजीकरण करवाएं। सभी संबंधित दस्तावेज जिला उद्यान अधिकारी कार्यालय में जमा करवाने होंगे। परमिट लेने के उपरांत किसान अपनी इच्छा अनुसार प्याज की किस्म का बीज/गठिया कहीं से भी खरीदकर बिल जिला उद्यान अधिकारी कार्यालय में जमा करवाना होगा। डीसी ने कहा कि बीज की गुणवत्ता की जिम्मेदारी स्वयं किसान की होगी। बीज जमाव के बाद संबंधित जिला उद्यान अधिकारी को सूचना देनी होगी। सदस्य सचिव, जिला बागवानी क्रियान्वयन इकाई द्वारा गठित कमेटी फसल के भौतिक सत्यापन उपरांत अनुदान राशि सीधे किसान के खाते में डाल दी जाएगी। मेरी फसल-मेरा ब्योरा पोर्टल पर पंजीकरण अवश्य करवाएं। इस योजना के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए जिला बागवानी कार्यालय में संपर्क किया जा सकता है।

Edited By: Jagran