झज्जर, [अमित पोपली]। 25 जून 1975। देश में आपातकाल लग गया था। पूरा देश दहशत के साये में आ गया। विरोधी दलों के नेता व सामाजिक कार्यकर्ता कैद में डाल दिए गए थे। इनमें ही शामिल थे झज्‍जर के लाला श्‍यामसुंदर गोयल भी शामिल थे। लाला को अलसुबह सोते से जगाकर गिरफ्तार किया गया। छह माह तक उनको पता ही नहीें चला कि उनको कहां ले जाया गया है।

हुआ यूं, रात दस बजे लाला श्यामसुंदर गोयल रोज की तरह झज्जर स्थित दुकान से घर लौटे। चेहरे पर चिंता और विस्मय का भाव। आते ही बोले, आज घर के बाहर कुछ अनजान चेहरे मुझे घूर रहे थे। कुछ गलत होने का भान तो था, मगर यह नहीं समझ पा रहे थे कि क्या हो सकता है? खैर, भोजन के बाद अपने शयनकक्ष में चले गए। काफी देर तक नींद नहीं आई। अभी आंख लगी ही थी कि किसी ने दरवाजा पीटा। घड़ी देखी तो सुबह के चार बजे थे। तमाम सवाल जेहन में आने लगे। दोबारा खट-खट की आवाज हुई। पूछा तो सामने से थानेदार की कड़क आवाज थी-दरवाजा खोलो। सोने से पहले की आशंकाएं अब दरवाजे पर खड़ी थीं। थानेदार ने सिर्फ इतना बताया कि ऊपर से गिरफ्तारी का आदेश है।

यह भी पढ़ें: ट्रेनों में कन्फर्म टिकट नहीं मिल रहा तो परेशान न हों, IRCTC की इस सुविधा का उठाएं लाभ

आपातकाल के दौरान अंबाला में जेल बंद रहे लाला श्यामसुंदर के परिवार ने झेली असहनीय दर्द

44 साल पहले की वह काली रात याद कर लाला श्यामसुंदर के पुत्र शिवशंकर की आंखें भर आईं। वह कहते हैं-कैसे भूल सकता हूं उस मनहूस रात को। उस दिन ने हम भाई-बहनों का बचपन छीना है। मां प्रेमवती देवी और हम सात भाई-बहन (घनश्याम गुप्ता, सुरेश चंद, नरेश चंद, दिनेश गुप्ता, डॉ. शिवशंकर, नंद किशोर, उर्मिला रानी) पिताजी की गिरफ्तारी से स्तब्ध थे। किसी को कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि क्या करें? कहां जाएं? बस यही सवाल था कि अब क्या होगा, बाबूजी कहां गए, कब आएंगे? मगर किसी के पास सही जवाब नहीं था। हो भी नहीं सकता था। पुलिस से पूछने पर धमकी मिलती थी।

सुबह चार बजे घर में सोते समय उठा ले गई थी पुलिस, पत्नी पर आ गई थी सात बच्चों की जिम्मेदारी

शिवशंकर बताते हैैं कि सबसे बड़े भाई घनश्याम गुप्ता तब 17-18 साल के थे। मां गृहिणी थीं। आढ़त की दुकान मुनीम के भरोसे हो गई थी। कारोबार घटने लगा। सबसे बड़ी परेशानी यह थी कि छह माह तक हमें पता नहीं चल पाया कि पिता जी को लेकर वे लोग गए कहां हैं? किसी तरह उनके अंबाला जेल में बंद होने की बात सामने आई तो डर थोड़ा कम हुआ। माता जी के साथ बड़े भाई जेल में मिलने गए। महज दो मिनट की मुलाकात थी। हमेशा प्रसन्नचित रहने वाले आरएसएस की विचाराधारा वाले पिताजी अब चिंतित थे। शरीर से भी कमजोर हो गए थे। सोचने का अंदाज बदल चुका था। कहते थे-अगर गलती की होगी तो माफी भगवान से मांगेंगे, इंसान से किसलिए?

यह भी पढ़ें: रिटायर्ड मेजर ने पड़ाेसन से कहा- अपने मुर्गे को संभालो, नहीं मानी तो बात यहां तक पहुंच गई


शिवशंकर बताते हैं, धीरे-धीरे हालात और बिगड़ते गए। मां अकेली घर संभालने वाली थीं। उन पर हम सात भाई-बहनों के लालन-पालन की जिम्मेदारी आ गई। लगता था कि सभी टूट जाएंगे, मगर मां हार मानने को तैयार नहीं थीं। उन्होंने किसी के सामने दुख नहीं रोया। वह अकेले में आंसू बहाती थीं। कोई देखता तो आंचल से आंसू पोंछ लेतीं और जतातीं जैैसे कुछ हुआ ही नहीं हो।

यह भी पढ़ें: दर्द और संघर्ष की दास्‍तां आज भी कर देती है रोंगटे खड़े, बेवजह बड़ी कीमत चुकाई इन्‍होंने

जेल से आए तो बदला था अंदाज

शिवशंकर ने बताया, 11 माह बाद जब पिताजी पैरोल पर जेल से बाहर आए तो पूरी तरह बदल गए थे। बातचीत में संत-योगी जैसा अहसास करा जाते थे। कहते थे कि अब देश में बदलाव जरूरी है। जीवनभर आपातकाल से जुड़े किस्से सुनते-सुनाते रहे। उनके कमरे में डॉ. मंगल सेन, लक्ष्मी चंद गुप्ता, हुक्म चंद गोयल सहित अन्य दिग्गज घंटों चर्चा करते।

-------

चाचा की जबरन नसबंदी करा दी थी पुलिस ने

शिवशंकर ने बताया कि आपातकाल के दौरान चाचा को पुलिस ने उठा लिया और जबरन नसबंदी करा दी गई। कई दिनों तक तो वे सामान्य भी नहीं हो पाए। जेल से पिता जी आए तो चाचा ने रोते हुए उन्हें पूरी बात बताई।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें


 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sunil Kumar Jha