बहादुरगढ़, जेएनएन। बहादुरगढ़ में करीब तीन सप्ताह पहले शहर के झज्जर रोड पर एक युवक को कार के अंदर माथे में गोली लगने के मामले में नया मोड़ आ गया है। युवक ने पहले तो दोस्त की रिवाल्वर से छेड़छाड़ करते हुए उसकी खुद की लापरवाही से गोली लगने और इसमें किसी का दोष न हाेने का ब्यान दर्ज करवाया था, मगर पुलिस ने अब छानबीन के बाद दोनों पर केस दर्ज किया है। एक पर आत्महत्या की कोशिश का और उसके दोस्त पर लाइसेंसी रिवाल्वर का नियमानुसार रखरखाव न करने के आरोप में कार्रवाई हुई है।

दरअसल, 18 अप्रैल की रात को झज्जर रोड पर आइटीआइ के पास माथे में गोली लगने से बराही गांव निवासी दीपक जख्मी हो गया था। बाद में जब उसने पुलिस को बयान दर्ज करवाया तो इसमें कहानी यह बताई थी कि रात को नौ बजे वह अपने दोस्त रवींद्र निवासी आदर्श नगर से मिलने के लिए अपनी स्विफ्ट कार लेकर शहर में आया था। उसने रवींद्र को बुलाया तो वह आ गया। इसके बाद वे दोनों उसकी कार में बैठकर बात करने लगे। रवींद्र के पास लाइसेंसी रिवाल्वर है। उसने कार में बैठने के बाद रिवाल्वर निकालकर साइड में रख दिया था। इसी बीच रवींद्र का फोन आया तो वह बात करने के लिए कार से नीचे उतर गया था।

उस दौरान उसने (दीपक) रवींद्र का रिवाल्वर उठाया और उसकी नाल देखने लगा तो इसी बीच ट्रिगर दबने से गोली चल गई थी जो उसके माथे में लगी। तब रवींद्र ने उसे संभाला और शहर के निजी अस्पताल में दाखिल करवाया। इसमें किसी का दोष नहीं है। यह संयाेग से हुआ। पुलिस ने भी इस आधार पर रिपोर्ट दर्ज कर ली थी। मगर पुलिस ने अपनी जांच जारी रखी है। छानबीन के बाद पुलिस काे मालूम हुआ कि दीपक से गोली संयोग से नहीं चली थी, बल्कि उसने आत्महत्या के मकसद से ऐसा किया था।

संयोग से गोली की दिशा बदली तो दीपक की जान बच गई। सेक्टर-6 थाना प्रभारी जयभगवान ने बताया कि दीपक ने आत्महत्या की कोशिश किस कारण से की थी, यह तो पूछताछ में ही पता चलेगा। मगर उसके खिलाफ खुदकुशी की कोशिश और रवींद्र के खिलाफ लाइसेंसी पिस्तौल को लेकर लापरवाही बरतने के आरोप में केस दर्ज किया गया है। जल्द ही दोनों को गिरफ्तार किया जाएगा।