जागरण संवाददाता, हिसार

शहर का सबसे वीआइपी राजगढ़ रोड। लघु सचिवालय से लेकर डीसी हाउस और आइजी कार्यालय। मगर हालात यह है कि यह वीआइपी सड़क अंधेरे में डूबी है। कारण है पीडब्ल्यूडी के अधिकारियों की अनदेखी। सड़क का काम पूरा होने के बावजूद अभी तक स्ट्रीट लाइटें लगाने का काम नहीं हो पाया है। ठेकेदार की तरफ से काम नहीं होने से वाहन चालकों को परेशानी होती है।

राजगढ़ रोड को नए रूप से तैयार करने के लिए करोड़ों रुपये का ठेका दिया गया था। ठेकेदार की तरफ से राजगढ़ रोड नहर पुल से लेकर बरवाला चुंगी तक काम करना था। ठेकेदार ने फव्वारा चौक तक काम करने के बाद राजगढ़ रोड का काम तो कर दिया लेकिन विभाग स्ट्रीट लाइट ही लगवाना भूल गया। हालात यह है कि सड़क टूटने लगी है लेकिन लाइटें नहीं लगी। अब रात के समय अंधेरे में ही वाहन चालकों को जाना पड़ता है। पीडब्ल्यूडी का कार्यालय भी इसी सड़क पर होने पर लोग ज्यादा परेशान लग रहे हैं।

---------------

सड़क टूटनी हुई शुरू

राजगढ़ रोड को बने एक साल भी नहीं हुआ लेकिन उसके टूटने का सिलसिला शुरू हो गया है। विभाग की तरफ से ठीक कर दिया गया लेकिन सड़क आज भी पीडब्ल्यूडी विभाग के समक्ष की खराब है। साथ ही गुलाब रेस्टोरेंट के सामने सड़क को आजतक विभाग सही ढंग से ठीक नहीं कर पाया है। लगातार पानी बहने के कारण वह हिस्सा टूटा ही रहता है। वहीं काफी जगह से अभी भी सड़क के बीच गड्ढे बने हुए हैं।

--------------

पहले ही हो चुका है टेंडर

सड़क पर स्ट्रीट लाइटें लगाने का काम बरवाला चुंगी से शुरू हुआ था। ठेकेदार की तरफ से फव्वारा चौक तक लाइटें लगा दी लेकिन इस वीआइपी रोड को भूल गया। इस सड़क पर भाजपा, कांग्रेस, इनेलो, जजपा नेताओं के घर है लेकिन कोई आवाज नहीं उठा पाया है।

----------

यह हो रही दिक्कत

फव्वारा चौक से आगे की तरफ से बस का इंतजार सवारियों को अंधेरे में करना पड़ता है। इसी प्रकार लघु सचिवालय के पास भी कोई लाइट नहीं होने से राजगढ़ नहर के पास चौक पर वाहन चालकों को परेशानी होती है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस