जागरण संवाददाता, हिसार : जिला सूचना एवं जनसंपर्क कार्यालय के अधिकारियों व कर्मचारियों ने सोमवार रात्रि गांव स्याहड़वा में रात्रि ठहराव कार्यक्रम के दौरान नाटक, गीतों, भजनों व अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम और कृषि विभाग के विषय विशेषज्ञों ने संबोधन के माध्यम से ग्रामीणों को फसल अवशेष न जलाने के लिए जागरूक किया।

डीआइपीआरओ पारू लता, एआइपीआरओ छोटूराम व सत्यपाल ¨सह, सरपंच अश्वनी कुमार, पूर्व सरपंच रामकुमार, कृषि विभाग के एसडीओ डा. पवन धींगड़ा व एडीओ विजय कुमार की मौजूदगी में डीआइपीआरओ कार्यालय के कलाकारों ने बेटियों के महत्व पर आधारित संवेदना से ओतप्रोत नाटक प्रस्तुत कर ग्रामीणों की खूब वाहवाही लूटी। कृषि विभाग के एडीओ डा. विजय कुमार ने ग्रामीणों को बताया कि किसान यह सोचकर फसलों के अवशेषों को आग लगा देते हैं कि यह अवशेषों के प्रबंधन का आसान तरीका है और आग लगाने का किसी को पता नहीं चलेगा लेकिन यह उनका भ्रम है। उन्होंने किसानों को कृषि विभाग द्वारा चलाई जा रही अन्य अनेक योजनाओं के बारे में भी विस्तार से जानकारी दी। ये रहे मौजूद इस अवसर पर सुरेश नंबरदार, पूर्व सरपंच रोशनलाल, जयवीर, बीडीसी सदस्य सूरजभान, रिसाल ¨सह, रामकुमार पोलू, महेंद्र, डीआइ वीरेंद्र शर्मा, विख्यात कलाकार निरंजन ¨सह, धर्मवीर ¨सह, महावीर ¨सह, रमेश कुमार, अनिल कुमार, आशीष, डेजी, ज्योति व कृष्ण कुमार सहित अन्य कलाकार व गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

Posted By: Jagran