जागरण संवाददाता, फतेहाबाद/हिसार : पिछले दिनों ही पंचायत के चुनाव हुए है। गांवों में सरपंच भी बन गए है। सरपंची चुनाव में लाखों रुपये खर्च भी हुए है। ऐसे में अब हारे हुए प्रत्याशी के मान सम्मान में रुपये भी दिए जा रहे है ताकि उन्हें आर्थिक नुकसान न हो। कुछ दिन पूर्व गांव नाढ़ोडी से सरपंची हारे सुंदर को ग्रामीणों ने 11 लाख व एक आल्टो कार दी थी। अब अनेक गांवों में हारे हुए प्रत्याशियों को मान सम्मान के लिए रुपये दिए जा रहे है। अब ऐसा ही मामला गांव पीलीमंदोरी में देखने को मिला है। यहां पर ग्रामीणों ने हारे हुए प्रत्याशी को 71 लाख रुपये दिए है। पीलीमंदोरी में दूसरे नंबर पर रहे हनुमान कूकणा को यह राशि दी है।

गांव पीलीमंदोरी में सरपंच पद के लिए चार उम्मीदवार चुनाव मैदान मे थे। जिनमें से धर्मवीर गोरछिया ने 2131 वोट लेकर जीत हासिल की। वहीं हनुमान कूकणा को 1931 वोटो से ही संतोष करना पड़ा जयसिंह गोरछिया, ओमप्रकाश पूनियां, रामस्वरूप, कृष्ण, राकेश, हनुमान आदि ने बताया कि हनुमान ने पिछले काफी सालों से गांव में सेवा कार्य किए थे।

जिसके कारण ग्रामीणों ने उन्हें उन्होंने यह चुनाव लड़ने के लिए कहा था, लेकिन वह आखिर में चुनाव 200 वोटों से हार गए। गांव की सहानुभूति हनुमान के साथ है। ऐसे में उन्हें आर्थिक नुकसान न हो इसके लिए उन्होंने 71 लाख रुपये दिए है।  हनुमान ने बताया कि वह हार के बाद भी लोगों के दुख सुख में शामिल होते रहेंगे। इसके अलावा गांव काजलहेड़ी से हारे सरपंच विष्णु को भी ग्रामीणों ने सहानूभुति के रूप में 8 लाख रुपये दिए है।

Edited By: Manoj Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट