जागरण संवाददाता, रोहतक। रोहतक में अब नो पार्किंग जोन में चार पहिया वाहन खड़े करने पर सख्ती होगी। नगर निगम की दो क्रेन से नो पार्किंग जोन से वाहन उठाने की कार्रवाई सोमवार से शुरू होगी। निगम ने जुलाई के पहले सप्ताह में टेंडर किए थे। एक अगस्त यानी रविवार से टेंडर का कार्य संचालित होगा। प्रति वाहन छुड़वाने के एवज में 500-500 रुपये का जुर्माना देना होगा।

नगर निगम के अधिकारियों ने बताया कि प्रति क्रेन नगर निगम को 1.80 लाख रुपये हर माह राजस्व मिलेगा। दो क्रेन से वाहन उठाने की कार्रवाई एक अगस्त से शुरू होगी। नो पार्किंग में यदि वाहन खड़े मिलेंगे तो उन्हें क्रेन खींचकर पंडित श्रीराम शर्मा रंगशाला में ले जाएगी। बता दें कि पहले नंबर वाली एजेंसी ने 14 लाख 70 हजार रुपये प्रति माह प्रति क्रेन शुल्क नगर निगम में जमा कराने की बात कही थी। दूसरे नंबर वाली एजेंसी ने भी अधिक बोली लगाई थी।

आयुक्त ने बताया कि हमने निष्पक्षता से कार्य करते हुए तीसरे नंबर की बोली लगाने वाली प्रवीन की एजेंसी को काम सौंपा है। इनसे प्रति माह दो क्रेन से वाहन उठाने की कार्रवाई होगी। इससे निगम को प्रति माह 3.80 लाख रुपये का राजस्व मिलेगा। नगर निगम के भूमि अधिकारी सुरेंद्र गोयल ने बताया क्रेन से वाहन उठाने के एवज में शुल्क के साथ ही 18 फीसद जीएसटी (वस्तु एवं सेवाकर) प्रति क्रेन देना होगा।

पार्किंग के टेंडर पांच को खुलेंगे, पर्ची कटती रहेंगी

निगम के भूमि अधिकारी सुरेंद्र गोयल ने बताया कि पांच अगस्त को शहीद भगत सिंह पार्किंग दिल्ली गेट, भिवानी स्टैंड, मेडिकल मोड, अशोका चौक और सोनीपत स्टैंड के लिए टेंडर खोले जाएंगे। इन्होंने यह भी बताया कि भिवानी स्टैंड स्थित मल्टीस्टोरी पार्किंग पर पर्ची कटेंगी। पार्किंग के टेंडर खुलने के बाद जिस एजेंसी को काम मिलेगा वह जिम्मा संभालेगी। यह भी बताया कि आठ घंटे के लिए चार पहिया वाहनों के लिए 20 रुपये, दो पहिया वाहनों के लिए 10 रुपये तय हैं। वहीं, इससे कम समय के लिए चार पहिया वाहन खड़े करने पर 10 रुपये और दो पहिया वाहनों के लिए पांच-पांच रुपये शुल्क जारी रहेगा।

नो पार्किंग जोन में वाहन खड़े करने पर अब क्रेन से वाहन उठाए जाएंगे। रविवार से कार्रवाई शुरू होगी। हमारी संबंधित एजेंसी से बातचीत हुई है। योजना पर काम शुरू होने से जाम से राहत मिलेगी। लोगों से यही अपील है कि वह वाहन खड़े करने के लिए नियमों का उल्लंघन न करें।

सुरेंद्र गोयल, भूमि अधिकारी, नगर निगम

 

Edited By: Manoj Kumar