संवाद सहयोगी, हांसी : संसद में सोमवार को पेश किए जा रहे बिजली बिल संशोधन 2022 के खिलाफ आल हरियाणा पावर कारपोरेशन वर्कर यूनियन की नेशनल कोआर्डिनेशन कमेटी के आह्वान पर केंद्र सरकार के खिलाफ कार्यकारी अभियंता कार्यालय के बाहर काम छोड़ो धरना दिया। धरने की अध्यक्षता यूनिट प्रधान सुरेंद्र हुड्डा ने की। जबकि मंच का संचालन सचिव रोहतास शर्मा ने किया। कार्यकारी अभियंता कार्यालय के समक्ष धरना दे रहे कर्मचारियों ने केंद्र सरकार की कर्मचारी विरोधी नीतियों की जमकर आलोचना करते हुए सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। केंद्र सरकार पेश किए जाने वाले बिजली बिल संशोधन कानून 2022 का विरोध किया।

राज्य प्रेस सचिव सुरेंद्र यादव ने कहा कि कहा कि केंद्र सरकार लगातार सरकारी उपक्रमों को प्राइवेट कंपनियों के हाथों में बेचने का काम कर रही है। कर्मचारियों के मांगों के लिए व किसान बिजली बिल संशोधन कानून 2022 का एसकेएम के आह्वान पर विरोध प्रदर्शन करेंगे जिसका नौ अगस्त को पूरे प्रदेश में बिजली कर्मचारी समर्थन करेगा। उन्होंने बताया कि सरकार की नीतियों के खिलाफ बिजली कर्मचारी अपनी मांगों को मनवाने के लिए 13 अगस्त को हरियाणा सरकार के बिजली मंत्री रणजीत चौटाला के सिरसा कैंप कार्यालय पर हजारों बिजली कर्मी विरोध प्रदर्शन करेंगे। इस मौके पर संघ वरिष्ठ उप प्रधान विकास चंदा, राजेश शर्मा, मनोज बडाला, विनोद दुहन, जोनी कुमार, सतीश शर्मा, सुमित कुमार, अमीरचंद जांगड़ा,पवन कुमार, राजेंद्र सैनी, राजेश सैनी, सुशील कुमार, सतीश रोहिल्ला, राजबीर लोहान, रणजीत सैनी, सतीश, भागचंद, अमरजीत यादव आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran