जागरण संवाददाता, हिसार: सिविल अस्पताल को आखिरकार करीब तीन साल बाद फिर से रेडियोलोजिस्ट की सुविधा मिल गई है। अब सिविल अस्पताल में दोबारा से अल्ट्रासाउंड की सुविधा शुरु हो जाएगी। सोमवार को सिविल अस्पताल में चंडीगढ़ में पीजी करके आए रेडियोलोजिस्ट रविशू भाटिया को डेपूटेशन पर ज्वाइन करवाया गया है। इसके अलावा रोहतक से एक अन्य रेडियोलोजिस्ट और मेडिसिन की डा. अंजू व गायनी की डा. पूनम को भी दाे महीने के लिए सिविल अस्पताल में डेपूटेशन पर भेजा गया है। अब सिविल अस्पताल में गर्भवती महिलाएं और अन्य बीमारियों के मरीज अल्ट्रासाउंड करवा सकेंगे।

निजी अस्पतालों में महंगे दामों पर अब अल्ट्रसाउंड नहीं करवाने पड़ेंगे। गौरतलब है कि सिविल अस्पताल में पिछले करीब तीन साल से अल्ट्रासाउंड नहीं हो पा रहे थे। पहले अल्ट्रसाउंड की मशीन खराब हो गई थी। इसके बाद मशीन मंगवाई गई तो रेडियोलोजिस्ट ही नहीं मिल पा रहे थे। कई निजी अस्पतालों से अनुबंध करके अल्ट्रसाउंड करवाए जा रहे थे, लेकिन यह अनुबंध भी 10 जुलाई को पूरा हो चुका था। जिसके बाद से अल्ट्रासाउंड के लिए निजी अस्पतालों में ही महंगे दामों में उपचार करवाना पड़ रहा है।

-- - सिविल अस्पताल में अल्ट्रासाउंड मशीन होने के बावजूद अल्ट्रासाउंड ना हो पाने के चलते गर्भवती महिलाओं को परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। सिविल अस्पताल में अल्ट्रासाउंड के लिए नई मशीन मुख्यालय ने भेजी थी। लेकिन अल्ट्रासाउंड मशीन काे रेडियोलोजिस्ट ना होने के कारण उपयोग में नहीं लिया जा सका थ। रेडियोलोजिस्ट न होने से सिविल अस्पताल प्रशासन निजी अल्ट्रासाउंड केंद्रो से एमओयू कर गर्भवती महिलाओं का अल्ट्रासाउंड करवा रहा था। लेकिन इस सुविधा के जरिये गर्भवती महिलाओं को सिर्फ एक बार निशुल्क अल्ट्रासाउंड की सुविधा दी जाती थी। जबकि गर्भावस्था के दौरान तीन से चार बार महिलाओं को अल्ट्रासाउंड प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है। ऐसे में गर्भवती महिलाओं को अपने खर्च पर पथरी और पेट की अन्य समस्याओं के लिए आने वाले रोगियों को अपने स्तर पर ही निजी अल्ट्रासाउंड केंद्रो से अल्ट्रासाउंड करवाना पड़ रहा था।

-- -- सिविल अस्पताल में पहले रैडक्रास द्वारा दी गई अल्ट्रासाउंड मशीन से प्रतिदिन 90 अल्ट्रासाउंड किए जाते थे। इनमें 45 गर्भवती महिलाओं के और अन्य पत्थरी, पेट दर्द सहित अन्य मामलों में अल्ट्रासाउंड होते थे। जिसके बाद यहां काम कर रहे रेडियोलोजिस्ट भी किसी निजी सेंटर में चले गए। इसके बाद जिन्होंने आवेदन किया, उन्होंने वेतन पर असंतोष जताया।

- - -- इन अस्पतालों से किया अनुबंध हो चुका समाप्त -

ब्लाक - निजी अल्ट्रासाउंड सेंटर - आश्रित स्वास्थ्य केंद्र

आदमपुर, सीसवाल - एसएल मिंडा मैमोरियल अस्पताल - आदमपुर, सीसवाल, डोभी, न्योली कलां, काजलां, चूली बागडिय़ान, बालसमंद।

बरवाला - श्री बालाजी अल्ट्रासांउड सेंटर - लांधड़ी और अग्रोहा।

बरवाला - श्री बालाजी अल्ट्रासाउंड एंड डायग्नोस्टिक सेंटर - उकलाना, दौलतपुर, पाबड़ा, हसनगढ़ गुराना, डाटा

बरवाला - बंसल अस्पताल - बरवाला, धान्सू, गुराना, डाटा।

अर्बन हांसी - गर्ग अस्पताल - नारनौंद, खांडाखेड़ी, मिर्चपुर, थुराना, सौरखी, पुठ्ठी मंगल खान, बास, पूठ्ठी समैण।

अर्बन हांसी - देव डायग्नोस्टिक सेंटर - हांसी, सिसाय, उमरा, चार कुतुब गेट हांसी।

अर्बन हिसार - डा. श्योराण अल्ट्रासाउंड - सेक्टर 1-4, सूर्य नगर, आजाद नगर, महाबीर कालोनी, सातरोड कलां।

अर्बन हिसार - गोस्वामी अस्पताल - आर्यनगर, चौधरीवास, गावड़, ऋषि नगर, हिसार।

अर्बन हिसार - छबीलदास अस्पताल - आर्यनगर, बालसमंद, गावड़।

-- एक रेडियोलोजिस्ट चंडीगढ़ से और गायनी, मेडिसिन के डाक्टर समेत एक रेडियोलोजिस्ट रोहतक से डेपूटेशन पर दो महीने के लिए भेजे गए है। अब अस्पताल में अल्ट्रासाउंड की सुविधा शुरु कर दी जाएगी।

पीएमओ डा. गोविंद, सिविल अस्पताल, हिसार।

-- - सिविल अस्पताल में रेडियोलोजिस्ट की सेवाएं शुरु करने के लिए मुख्यालय से मांग की थी। मुख्यालय के आदेशों पर अब दो रेडियोलोजिस्ट भेजे गए है।

डा. रत्नाभारती, सीएमओ, हिसार।

 

Edited By: Manoj Kumar