हिसार, जेएनएन। ऑनलाइन ठगी के मामले दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रहे हैं। शातिर ठग के नए-नए तरीकों से लोगों की जमा पूंजी पर सेंध लगा रहे हैं। टिब्बा दानाशेर निवासी प्रहलाद सिंह के साथ कुछ ऐसी ही वारदात हुई। प्रहलाद सिंह का गूगल-पे अकाउंट तीन दिन से बंद था। अकाउंट शुरू करवाने के लिए उसने इंटरनेट से कस्टमर केयर का नंबर लेकर उस पर कॉल की। इस नंबर पर कॉल करने के बाद उसको 10 मिनट में दो लाख 84 हजार 967 रुपये की चपत लग गई। अब पुलिस ने मामला दर्ज किया है। आपके पास भी अगर इस तरह का कॉल आए तो आप सावधान रहें। क्‍योंकि बैंक से इस संबंध में किसी तरह की फोन कॉल नहीं आती है।

प्रहलाद ङ्क्षसह रेड स्क्वेयर में एक दुकान पर काम करता है। उसने बचत कर यह पैसा जोड़ा था। प्रहलाद ने बताया कि 20 दिसंबर से उसका गूगल-पे अकाउंट चल नहीं रहा था। 23 दिसंबर को उसने इंटरनेट से कस्टमर केयर का नंबर लेकर फोन किया। दूसरी तरफ से युवक ने प्रहलाद से सामान्य तरह से बातचीत की। इस दौरान प्रहलाद के नंबर पर एक मैसेज आया। इसके बाद शातिर ठग ने यह मैसेज सेंड करने के लिए कहा। जिस पर प्रहलाद को कुछ शक हुआ और उसने शातिर ठग को टोक भी दिया।

लेकिन ठग ने उससे किसी प्रकार की निजी अकाउंट की जानकारी नहीं मांगने की बात कही। इसके बाद प्रहलाद ने वह मैसेज सेंड कर दिया। मैसेज सेंड करते ही ठगों ने प्रहलाद के अकाउंट से पैसा निकालना शुरू कर दिया। पैसा निकलने के मैसेज आए तो प्रहलाद ने बैंक में जाकर अकाउंट को बंद करवाया लेकिन तब तक उसके अकाउंट से 27 ट्राजंक्शन से दो लाख 84 हजार से ज्यादा की राशि निकल चुकी थी।

झारखंड के अकाउंट में गया पैसा

प्रहलाद ने बैंक से पैसा निकालने पर जानकारी जुटाई तो सामने आया कि झारखंड के किन्हीं तीन अकाउंट में पैसा ट्रांसफर हुआ है। उसके अलावा पेटीएम के एक अकाउंट में भी पैसा गया है। प्रहलाद ने मामला दर्ज करवाने के साथ पेटीएम को भी सूचना दी ताकि वह उस अकाउंट की जानकारी दे सके।

Posted By: Manoj Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस