हिसार, जेएनएन। हरियाणा पुलिस ने दाे खालिस्‍तानी आतंकियों को करनाल से गिरफ्तार किया है। हिसार के स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने सिख फॉर जस्टिस ग्रुप से जुड़े दो युवकों को करनाल की सीएचडी सिटी कॉलोनी दबोचा है। गिरफ्तार किए गए युवकों में लुधियाना तहसील पायल तेजप्रकाश उर्फ काका और आकाशदीप सिंह उर्फ सोनू के रूप में हुई है। एसटीएफ ने दोनों युवकों के पास से 32 बोर की पिस्तौल और छह जिंदा कारतूस बरामद किए हैं।

सिख फार जस्टिस ग्रुप से जुड़े हैं पंजाब के दोनों युवक, करीब पौने दो लाख रुपये की हुई थी फंडिंग

पुलिस ने  ने रिमांड पर पूछताद के बाद न्यायालय में पेश किया। अब उनको जेल भेज दिया है। रिमांड के दौरान पूछताछ में दोनों आरोपितों ने बताया कि वे पंजाब में दो नेताओं सुधीर सूरी और गुरुशरण मंड पर हमला करना चाहते थे। इन दोनों युवकों का फेसबुक के जरिये गुरमीत सिंह से संपर्क हुआ।

अमेरिका के रहने वाले गुरमित ने की थी फंडिंग, खालिस्तानी संगठन से जुड़े हैं तार

गुरमीत अमेरिका में सिख फॉर जस्टिस के लिए काम करता है। गुरमीत के तार आतंकी संगठन खालीस्तानी फोर्स के साथ भी जुड़े हुए हैं। दोनों युवक कट्टरपंथी थे। इसी का फायदा उठाते हुए गुरमीत ने फेसबुक के जरिये संपर्क साधकर अपने धर्म के प्रति कट्टरता का संदेश देना शुरू कर दिया था व कहता था कि जो भी व्यक्ति हमारे धर्म के खिलाफ बातें करता है उसको जान से मार दो।

मनीग्राम के जरिये की फंडिंग

पूछताछ में दोनों युवकों ने बताया कि गुरमीत सिंह ने मनीग्राम के माध्यम से करीब पौने दो लाख रुपये की फंडिंग की। मनीग्राम से फंडिंग के लिए कोई भी आसानी से विदेशों से पैसें मंगवा सकता है। एक लिए जो भी सदस्य पैसे भेजता है वह एक गुप्ता पासवर्ड देता है। मनीग्राम के माध्यम से संबंधित व्यक्ति आई और सीक्रेट पासवर्ड के जरिये रुपये प्राप्त कर सकता है। एसटीएफ मनीग्राम के मुंबई स्थित मुख्यालय से संपर्क साधकर दोनों युवकों व रुपये भेजने वाले की डिटेल मांगी है। इसके लिए बकायदा मेल की गई है।

पैसों से खरीदने थे हथियार

गुरमीत ने मनीग्राम से लाखों रुपये की फंडिंग की। इस पैसें से हथियार खरीद कर पंजाब में कुछ नेताओं की हत्या की साजिश रची गई। इतना ही नहीं दोनों युवकों को गुरमीत ने धर्म के खिलाफ बोलने वालों की हत्या के लिए भी उकसाया। मगर दोनों आरोपित कुछ कर पाते इससे पहले ही हिसार एसटीएफ की टीम ने दोनों को काबू कर लिया। दोनों आरोपितों के खिलाफ करनाल थाने में धारा 10,13 यूएपीए 1967, 25-54-59 शस्त्र अधिनियम व 120बी आईपीएस के तहत सदर करनाल में दर्ज करवाया गया है।  

-----

'' दोनों युवकों को हिसार एसटीएफ ने गुप्त सूचना के आधार पर गिरफ्तार किया है। पुलिस मुख्य साजिशकर्ता गुरमीत की तलाश में है। गुरमीत पंजाब में कहां से है इसका भी पता लगाया जा रहा है।

                                                                                                - पवन कुमार, एसटीएफ इंचार्ज, हिसार।

Edited By: Sunil Kumar Jha