हिसार,जेएनएन। सिरसा में एक ही परिवार के पांच लोगों की सड़क हादसे में मौत हो गई। मौत होने के बाद मातम पसर गया है। रोहतक में बेटी को तैराकी सिखाने तालाब में उतरे पिता और बेटी की मौत हो गई। गर्मी के कारण लोगों का बुरा हाल है। रोहतक में दवाइयों की जगह आर्गेनिक उत्‍पादों ने एक महिला की जिंदगी बदल दी है। ऑस्‍ट्रेलिया में हरियाणवी संस्‍कृति केंद्र स्‍थापित होगा। फटाफट खबरें जानें एक नजर में.......

दो दिन पहले हुई शादी, दूल्‍हा-दुल्‍हन समेत पांच की मौत

सिरसा हाईवे पर रविवार देर रात्रि-अल सुबह गांव साहुवाला-पन्नीवालामोटा के मध्य सड़क हादसे में नवविवाहित जोड़े समेत पांच लोगों की मौत हो गई। जिसने भी यह बात सुनी सन्‍न रह गया। टक्‍कर इतनी तेज थी गाड़ी चकनाचूर हो गई और सड़क पर लाशें बिखर गईं। मृतकों की पहचान डबवाली के वार्ड नम्बर 10 स्थित गली श्री कृष्ण प्रणामी आश्रम वाली निवासी विकास बांसल उर्फ विक्की, उसकी पत्नी शीनू, बेटी 11 वर्षीय भव्य, भाई घनश्याम बंसल, उसकी पत्नी शिल्पा के रूप में हुई है। परिवार फतेहाबाद से स्विफ्ट डिजायर में वापिस लौट रहा था। गांव साहुवाला-पन्नीवाला मोटा के मध्य डबवाली की ओर जा रहे ट्रॉला में कार ने पीछे से टक्कर मार दी। कार को विक्की चला रहा था। 27 जून को शादी हुई थी और अब दुल्‍हन के घर से दूल्‍हे के घर जा रहे थे। पांच लोगों की मौत होने सेे परिवार में मां और एक भतीजी ही बची है।

तालाब में डूबने से पिता-बेटी की मौत, मातम

रोहतक के पाकस्मा गांव में तालाब में डूबने से पिता और आठ वर्षीय बेटी की मौत हो गई। ग्रामीणों ने कड़ी मशक्कत के बाद दोनों के शवों को बाहर निकाला। बताया जा रहा है कि बच्ची का पिता उसे तालाब में तैराकी सिखाने के लिए लेकर गया था। वहीं परिजनों ने पुलिस को सूचना दिए बिना ही दोनों का अंतिम संस्कार कर दिया। पुलिस ने भी मामला संज्ञान में होने से इन्‍कार किया है, वहीं पिता पुत्री की मौत होने से गांव में मातम पसरा है।

अनूठे ढंग से मनाया पोती का जन्‍मदिन

हिसार में वन विभाग से डिप्टी रेंजर के पद से सेवानिवृत हुए सेक्टर 1-4 निवासी बलबीर सिंह ने हाल में ही पैदा हुई पोती ज़ीवा के जन्मदिन को अनूठे ढंग से मनाया है, उन्‍हाेंने न केवल बेटी के जन्म पर जलवा यानि कुआं पूजन किया बल्कि विभिन्न किस्मों के फलदार व दूसरे किस्मों के 101 पौधे भी लगाये। नवागुंतक ज़ीवा के परदादा 90 वर्षीय गोपीराम ने भी अपने हाथों से एक पेङ लगाकर खुशियां दोगुनी की। जिसकी हर तरफ प्रशंसा हो रही है। ऐसे कार्यक्रमों से ना केवल बेटी बचाने का सन्देश मिलता है बल्कि पर्यावरण को बचाने की मुहिम को भी महत्वपूर्ण सहयोग मिलता है। कार्यक्रम के उपरान्त  सेक्टरवासियों ने भरोसा दिलाया को उनके द्वारा आज लगाये गये सभी 101 की देखभाल में भी वो विशेष योगदान देंगें।

नौ साल एलर्जी की पीड़ा झेली तो एक समाधान ने बदल दी जिंदगी

रोहतक की निशा 2009 के बाद आठ-नौ साल तक वह एलर्जी से पीडि़त रहीं। स्वस्थ होने के लिए हर नुस्खा अजमाया। एक चिकित्सक की सलाह पर छह माह तक गेहूं से निर्मित सभी उत्पादों का उपयोग तक बंद कर दिया था, मगर राहत नहीं मिली। करीब दो साल पहले दिल्ली में चिकित्सकों ने सभी टेस्ट कराए। बाद में सलाह दी कि आपको डिब्बाबंद खाद्य-पेय और कीटनाशकों के उपयोग से तैयार होने वाले सभी खाद्यान्नों से एलर्जी है। इसके लिए खुद ही फल, सब्जियां, गेहूं आदि उगाकर उनका उपयोग करने की सलाह दी। चिकित्सकों की सलाह मानी, जिसके परिणामस्वरूप आज वह खुद व परिवार स्वस्थ हैं।

कुरकुरे खाने की जिद ने ले ली बच्‍चे की जान

चौटाला हाईवे पर गांव सकताखेड़ा के नजदीक कार ने 8 वर्षीय बच्चे को कुचल दिया। इससे बच्चे की मौके पर ही मौत हो गई। हादसे के बाद कार चालक फरार हो गया। मृतक की पहचान स्वराज निवासी गांव सकताखेड़ा के रूप में हुई है। आठ वर्षीय स्वराज अपने दादा पूर्व पंचायत सदस्य बूटा सिंह के साथ हैफेड फीड प्लांट के नजदीक सीमेंट बैग उठाने गया था। दादा-पोता ट्रैक्टर से जा रहे थे। वापसी में पोते ने कुरकुरे खाने की जिद की। पोते की जिद पूरी करने के लिए दादा उसकी अंगुली पकड़कर हाईवे की दूसरी ओर स्थित दुकान पर ले जाने लगा। पोता अंगुली छुड़वाकर दुकान की ओर भाग लिया। डबवाली की ओर से आई तेज गति कार ने बच्चे को टक्कर मार दी,  स्वराज ने मौके पर ही दम तोड़ दिया।

ऑस्ट्रेलिया में स्थापित होगा हरियाणवी संस्कृति केंद्र

हरियाणवीं लोक संस्कृति और कला को ऑस्ट्रेलिया में प्रोत्साहित करने के लिए सिडनी में हरियाणा मनोरंजन केंद्र स्थापित किया जाएगा। इसकी स्थापना के लिए वहां की सरकार भी वित्तीय सहायता प्रदान करेगी। एसोसिएशन ऑफ हरियाणा इन ऑस्ट्रेलिया (एएचए) की प्रथम वर्षगांठ के अवसर पर सिडनी में आयोजित भव्य सांस्कृतिक समारोह में यह घोषणा संगठन के अध्यक्ष सेवा सिंह ने की।

3 जून तक बादल और बूंदाबांदी के आसार

कभी बादल तो कभी धूप और उमस के साथ आंखमिचोली चल रही है। लोग गर्मी के मारे परेशान हैं। रविवार को दिनभर कड़ी धूप के कारण तापमान 42.6 डिग्री सेल्सियस रहा, वहीं शाम को हुई बारिश के बाद तापमान में गिरावट दर्ज की गई। इससे लोगों को गर्मी और उमस से बड़ी राहत मिली है। मगर सोमवार को फिर से गर्मी के मारे लोग बेहाल रहे। मगर उमस के कारण बारिश हुई तो यह बारिश किसी भी तरह की फसल के लिए फायदेमंद साबित होगी। चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के कृषि मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार क्षेत्र में 3 जुलाई तक मौसम परिवर्तनशील रहेगा। इस दौरान बीच-बीच में आंशिक बादल छाने के साथ साथ कहीं-कहीं छिटपुट बूंदाबांदी या आंशिक बादल की संभावना है।

 

Posted By: manoj kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस