- अजीत की मां का डीएनए सैंपल का मृतक के डीएनए से मिलान करके खुलेगा अजीत की मौत का रहस्य

- सूर्य नगर निवासी अजीत की मौत के रहस्य को सुलझाने में जुटी तीन सदस्यीय कमेटी

- तोशाम रोड पर 19 जून को मिला था अधजला शव

सुभाष चंद्र, हिसार:

सूर्य नगर निवासी अजीत के मौत के रहस्य को सुलझाने के लिए डीआइजी द्वारा गठित तीन सदस्यीय कमेटी ने मृतक की 65 वर्षीय माता केलापति का डीएनए सैंपल लेकर जांच के लिए भिजवाया है। सैंपल को मृतक की विसरा रिपोर्ट से मिलान करके देखा जाएगा कि तोशाम रोड पर जो शव पुलिस को मिला था, वह वास्तव में अजीत था भी या नहीं। गौरतलब है कि उस दौरान शव अधजला मिला था। चेहरा पूरी तरह से जला हुआ था। स्वजनों ने सिर्फ शव के लोवर की जेब और उसके हाथ की बनावट देखकर शिनाख्त की थी। लेकिन इस मामले में जांच कर रही तीन सदस्यीय जांच कमेटी ने शक जताया है कि हो सकता है यह अजीत का शव न हो। इसलिए कमेटी दूसरे एंगल से जांच में जुट गई है। तीन सदस्यीय कमेटी में एएसपी उपासना, एसएचओ एचटीएम थाना इंस्पेक्टर सुखजीत और सदानंद को लिया गया है।

-----------------

बाक्स -

19 जून को मिला था अधजला शव -

गौरतलब है कि तोशाम रोड पर सिद्धार्थ इंटरनेशनल स्कूल के सामने खाली प्लाट से 19 जून को अधजली हालत में अजीत का शव मिला था। उस दौरान अजीत के स्वजनों ने बताया था कि अजीत अपने पिता की दवा लेने बाइक पर सवार होकर दो दिन पहले घर से निकला था। दो दिन बाद सुबह 10.30 बजे अजीत का अधजला शव तोशाम रोड पर एक मारबल हाउस के साथ खाली प्लाट से मिला था। अजीत चिकनवास गांव के सरकारी हाई स्कूल में साइंस के केमिस्ट्री विषय का शिक्षक था। पुलिस ने घटनास्थल से अधजले शव के साथ मृतक की मोटरसाइकिल, एक नया चाकू, चाकू का रैपर, दो टीके, एक सीरिज, दो प्लास्टिक के ढक्कन बरामद किए थे। मौके से कोई पेट्रोल या तेल की कोई केन या बोतल बरामद नहीं हुई था। पुलिस अभी तक इन चीजों के शव के पास मिलने के रहस्य को सुलझा नहीं पाई है।

----------------------

बाक्स -

स्वजनों की गुहार पर गठित की थी कमेटी -

गौरतलब है कि शहर के सूर्य नगर निवासी 44 वर्षीय अजीत डागर की मौत के मामले में पीड़ित परिवार की गुहार पर डीआइजी ने तीन सदस्यीय कमेटी गठित की थी। लेकिन अजीत की मौत के मामले की गुत्थी पुलिस डेढ़ महीने बाद भी नहीं सुलझा पाई हैं। पुलिस को कुछ सीसीवीटी फूटेज बरामद हुई थी, जिसके आधार पर पुलिस अजीत की मौत को आत्महत्या का मामला मान रही थी, लेकिन मामले में मृतक के भाई अधिवक्ता अनूप का कहना है कि अजीत की हत्या हुई है। इसलिए इस मामले की गहनता से जांच की जाए, ताकि अजीत की मौत के रहस्य से पर्दा उठ सकें। पुलिस ने मृतक अजीत का पोस्टमार्टम के बाद विसरा जांच के लिए भिजवाया था, लेकिन अब तक इसकी रिपोर्ट नहीं आई है।

----------

वर्जन -

मामले में एडवोकेट अनूप की माता का डीएनए सैंपल लिया गया है। इसे जांच के लिए भिजवाया गया। इसका मृतक के डीएनए से मिलान करके देखा जाएगा कि जो मृतक मिला था, वह वास्तव में अजीत है भी या नहीं।

इंस्पेक्टर सुखजीत, एचटीएम थाना प्रभारी, हिसार।

Edited By: Jagran