जेएनएन, हिसार : बाबा उद्दल देव सीनियर सेकेंडरी स्कूल की संस्था से जुड़े महम के गांव भैणी महाराजपुर के स्कूल की संचालिका सोनू रानी ने हिसार में खुदकुशी कर ली है। उन्होंने सेक्टर 9-11 स्थित अपनी कोठी में फांसी लगाई। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची। शव कब्जे में लेकर मामले में जांच शुरू कर दी है।
  बाबा उद्दल देव सीनियर सेकंडरी स्कूल संस्था के स्कूल की मान्यता सीबीएसई ने रद्द कर दी है। संस्था के स्कूलों में से गांव भैणी महाराजपुर में एक स्कूल धर्मेंद्र सिंह व उनकी पत्नी सोनू रानी चलाते रहे हैं। उस स्कूल की संचालिका सोनू रानी ने हिसार के सेक्टर 9-11 की कोठी में कमरे की अंदर से चिटकनी बंद कर ली। परिजनों ने दरवाजा खटखटाया तो कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई। इस पर परिजनों और आसपास के लोगों को अनहोनी की आशंका हुई। उन्होंने इसकी सूचना पुलिस को दी। सेक्टर 9-11 थाना प्रभारी कुलदीप कुमार टीम सहित मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने पाया कि सोनू रानी पंखे के हुक में चुन्नी के फंदे में झूल रही है। उसकी मौत हो चुकी थी। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर सामान्य अस्पताल पहुंचाया। जहां शनिवार सुबह उसका पोस्टमार्टम होगा।
 सीबीएसई की ओर से बाबा उद्दल देव सीनियर सेकेंडरी स्कूल संस्था के स्कूल की मान्यता को रद्द किया गया है। यह फैसला मान्यता में प्रयोग हुए दस्तावेजों में फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद लिया गया है। इस संस्था के भिवानी, रोहतक, जींद व हिसार में करीब 100 शाखाएं खुली हैं। इनमें 10 हजार से ज्यादा विद्यार्थी पढ़ रहे हैं। इनमें करीब 20 प्ले स्कूल भी शामिल हैं। स्कूल द्वारा नक्शा से लेकर मान्यता तक में गड़बड़ी पाई गई। ऐसे में हिसार से भी जिला बाल सुरक्षा अधिकारी की ओर से भी दिल्ली के राष्ट्रीय बाल अधिकारी संरक्षण आयोग को जिले में चल रहे बाबा उद्धल देव स्कूल द्वारा संचालित प्ले स्कूलों के संबंध में एक्शन लेने की मांग की गई थी।
आरटीआइ के माध्यम से सामने आया फर्जीवाड़ा
स्वास्थ्य शिक्षा सहयोग संगठन के प्रदेशाध्यक्ष बृजपाल परमार ने अनुसार आरटीआइ के माध्यम से पता चला कि स्कूल द्वारा फर्जी दस्तावेज लगाकर सीबीएसई बोर्ड से मान्यता ली गई थी, जोकि जांच में फर्जी पाए गए। वहीं, नगर योजनाकार विभाग ने स्कूल को बंद कर इस स्कूल के बच्चों को दूसरे स्कूलों में शिफ्ट करने की मांग की है। हालांकि एक अन्य एफआइआर में 1 जनवरी 2018 को प्रिंसिपल शैलेंद्र के भाई धमेंद्र के खिलाफ व स्कूल प्रबंधक निदेशिका व स्कूल क्लर्क के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज था।
सोसायटी के प्रधान के खिलाफ भी जारी है जांच
महम थाना में श्री बाबा उद्दल देव सोसायटी के प्रधान शैलेंद्र ¨सह के विरुद्ध एफआइआर दर्ज हुई थी। पुलिस के अनुसार गांव भैणी महाराजपुर तहसील महम में अवैध निर्माण कर लिया था। सीबीएसई ने जांच की तो स्कूल ¨प्रसिपल ने फर्जीवड़ा कर एनओसी ले रखी थी। कार्यालय द्वारा 26 अप्रैल 2007 से कारण बताओ नोटिस व 3 मई 2007 से रस्टोरेशन ऑर्डर जारी किए थे। एजुकेशन सोसायटी द्वारा किए अवैध निर्माण को कम्पाउंड कराने के लिए कार्यालय में 29 अप्रैल 2016 को आवेदन किया था। इस पर रिपोर्ट 16 अगस्त 2016 से उच्च अधिकारियों को भेजी गई थी। नगर योजनाकार कार्यालय के निर्माण सहायक बिनेश कुमार ने 18 अप्रैल 2018 को कई धाराओं के तहत केस दर्ज किया था। इसके अलावा महम के खंड शिक्षा अधिकारी की शिकायत पर 13 मई 2019 को महम थाना में एक और एफआइआर दर्ज थी।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप