हिसार (वि): सर्व कर्मचारी संघ से संबंधित हरियाणा विद्यालय अध्यापक संघ की हिसार जिला कार्यकारिणी की बैठक जिला प्रधान सुतारद्दीन मिर्जा की अध्यक्षता में हुई। बैठक का संचालन करते हुए जिला सचिव पवन कुमार ने किया। बैठक में 27 सितंबर को निजीकरण विरोध दिवस मनाने का निर्णय लिया गया और विरोध दिवस को सफल बनाने लिए योजना तैयार की गई। प्रधान सुतारद्दीन मिर्जा ने बताया कि केंद्र सरकार व हरियाणा सरकार शिक्षा के सार्वजनिक ढांचे को तहस-नहस करने पर तुली हुई है। शिक्षा विभाग के द्वारा लगातार गैर शैक्षणिक कार्यों के ऊपर रोक लगाने के पत्र जारी करने के बावजूद शिक्षकों से गैर शैक्षणिक कार्य करवाए जा रहे हैं। जिला सचिव पवन कुमार ने कहा कि शिक्षा विभाग द्वारा बार बार तबादला कार्यक्रम जारी होने के बावजूद तबादले नहीं हो पा रहे हैं, 800 के लगभग पद्दोन्नत प्राचार्यों को अभी तक स्कूल नहीं दिए गए, पिछले दो सालों से बच्चों की वर्दी और छात्रवृत्ति की राशि भी जारी नहीं की गई है। उन्होंने कहा कि इन सभी समस्याओं के साथ-साथ सरकार राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत शिक्षा को निजी हाथों में सौंपना चाहती है जिसके चलते हरियाणा विद्यालय अध्यापक संघ की केंद्रीय कमेटी ने निर्णय लिया कि 27 सितंबर को ब्लाक स्तर पर दो बजे से शाम पांच बजे तक निजीकरण विरोध दिवस के रूप में विरोध प्रदर्शन किया जाएगा और शिक्षा मंत्री हरियाणा सरकार और अतिरिक्त मुख्य सचिव शिक्षा विभाग के नाम ज्ञापन खंड शिक्षा अधिकारी को सौंपा जाएगा। बैठक में राज्य कार्यालय सचिव जयबीर सिंह, विरेन्द्र सिंह, प्रमोद जांगड़ा, शमशेर सिंह, दिनेश शर्मा, देवीलाल, बाबूलाल, फकीरचंद, विनोद कुमार, अनिल कुमार, राजकुमार, कुलभूषण शर्मा, संदीप मीरकां व नरेश गौत्तम आदि पदाधिकारी शामिल हुए।

Edited By: Jagran