हिसार/फतेहाबाद, जेएनएन। फतेहाबाद में टीबी मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है। वहीं मरने वालों का आंकड़ा भी कोई कम नहीं है। लेकिन स्वास्थ्य विभाग इस बात को लेकर चिंतित नहीं है कि मरीज बढ़ रहे हैं बल्कि उनका तर्क है कि अब लोग जागरूक हो रहे हैं। टीबी की जांच करवाने के लिए आगे आ रहे हैं। यही कारण है कि मरीजों की संख्या अधिक बढ़ी है।

सबसे ज्यादा मरीज रतिया व टोहाना में

स्वास्थ्य विभाग ने वर्ष 2020 में सर्व करवाया था। सर्व के अनुसार सबसे अधिक मरीज रतिया व टोहाना क्षेत्र में मिले। ये वो लोग थे जो नागरिक अस्पताल में इलाज करवाने के लिए आए। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने सर्वे किया और लोगों की बीमारी के बारे में पता किया। अब जिले को टीबी रोग से मुक्त करने और टीबी के सक्रिय केस ढूंढने के लिए मेदांता टीम द्वारा मेडिकल मोबाइल वैन भेजी गई है। यह टीम पिछले साल 28 दिसंबर को आ गई थी। अब यह टीम उसी क्षेत्र में जा रही है जहां अधिक मरीज आए है।  

5 फरवरी तक चलेगा अभियान 

मेदांता से आई यह मेडिकल मोबाइल वैन जिले के विभिन्न क्षेत्रों में जाकर संभावित टीबी के मरीजों की एक्स-रे एवं सीबीनाट मशीन द्वारा जांच कर रही है। पिछले कुछ दिनों में टीम ने 100 सैंपल ले ली है। हालांकि अभी तक इस रिपोर्ट का खुलासा नहीं किया है। रेंडम के हिसाब से सैंपल लिए है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग को भी पता चल जाएगा कि अपने जिले में टीबी के मरीजों की संख्या है। उसके बाद उसी गांव में कैंप लगाकर इन मरीजों का इलाज किया जाएगा। 

अब जाने जिले में कहा आएगी यह वैन 

तिथि          जगह

12 जनवरी     फतेहाबाद के आजाद नगर व कीर्ति नगर

13 जनवरी      गांव जांडली कलां

14 जनवरी      बिंजा लाम्बा व बरोटा

15 जनवरी      गांव भिरड़ाना

18 जनवरी      गांव अयाल्की 

19 जनवरी      गांव हिजरावां कलां

21 जनवरी      टोहाना के राज नगर

22 जनवरी      मशाला फैक्ट्री टोहाना।

25 जनवरी      किला मुहल्ला टोहाना

27 जनवरी      गांव जमालपुरशेखां

28 जनवरी       गांव जाखल

29 जनवरी      गांव साधनवास।

1 फरवरी        जाखल न्यू बस्ती 

2 फरवरी         गांव कुनाल

3 फरवरी         गांव अकांवाली

4 फरवरी         गांव समैन

5 फरवरी         गांव गाजुवाला।

जिले में टीबी की स्थिति

जिले में कुल मरीज मिले : 2072

एचआइवी मरीजों की हुई जांच : 2041

डायबिटीज मरीजों की हुई जांच : 1923

मरीज ठीक हुए             : 2017

मौत                     : 189

निक्षय पोषण का लाभ        : 1428

टीबी के लक्षण

-दो सप्ताह से अधिक खांसी रहना।

-शाम को हल्का बुखार आना।

-भूख न लगना

-वजन का कम होना।

-रात को सोते समय पसीना आना।

-बलगम में खून आना इत्यादि टीबी के लक्षण होते हैं।

उपसिविल सर्जन बोले- जागरूक हो रहे लोग

उपसिविल सर्जन एवं जिला क्षय रोग अधिकारी डा. हनुमान सिंह ने कहा कि जिले में टीबी के मरीजों की संख्या बढ़ने का कारण लोग जागरूक होना भी है। टीबी की जांच करवाने के लिए लोग अस्पतालों में आ रहे है। अपने जिले में मेदांता से एक टीम आई हुई है जो ऐसे मरीजों की जांच कर रही है। जहां-जहां अधिक मरीज मिले है वहां हमने टीम भेजी है। अंतिम दिन अपनी रिपोर्ट देगी। 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021