ओपी वशिष्ठ, रोहतक : पंजाब के गायक सिद्धू मूसेवाला की हत्या के करीब एक दिन बाद रिलीज हुए गीत को लेकर जहां सतलुज-यमुना-लिंक (एसवाईएल) नहर के विवाद को ताजा कर दिया है, वहीं आपसी भाईचारे और राष्ट्रवाद की भावना को भी ठेस पहुंचाने की बातें सामने आ रही हैं। मूसेवाला के इस गीत का जवाब देने के लिए हरियाणा के गायक मैदान में उतर गए हैं। उन्होंने अपने-अपने तरीके से गीत रिलीज कर जवाब दिया है।

रामकेश जीवनपुरिया ने एसवाईएल के पानी पर हरियाणा का हक और हरियाणा-पंजाब के आपसी भाईचारे को लेकर गीत रिलीज किया है। इस गीत को दो घंटे में ही 50 हजार से अधिक व्यूज मिल चुके हैं। इसी तरह हरियाणवी सिंगर मासूम शर्मा ने भी गीत के माध्यम से हुए एसवाईएल के पानी की एक-एक बूंद लेने का दावा किया है। उन्होंने इस गीत को बड़े ही जोश के साथ गाया है।

हरियाणा का हक मारना अच्छी बात नहीं...

रामकेश जीवनपुरिया ने अपने गीत पंजाबी सूबा मांगा, अब हरियाणा मांगों, क्यों बात घुमा के पानी पर झंडा टांगों, अरे सीधे मुंह कह दो न कि साथ देना नहीं, म्हारे हरियाणा के हक का मारना अच्छी बात नहीं ... शनिवार शाम को रिलीज किया है। उन्होंने इस गीत के माध्यम से बताया कि पहले पंजाब से हरियाणा को अलग किया और अब हक का एसवाईएल का पानी भी नहीं दे रहा है। किसान आंदोलन में हरियाणा के पंजाब के लोगों का मजबूती के साथ दिया। खाने-पीने के लिए लंगर भी लगाए। उन्होंने खालिस्तानी का भी जिक्र करते हुए राष्ट्रविरोधी ताकतों का साथ नहीं देने का जिक्र भी किया है।

गजेंद्र फौगाट करते रहे दावा, अन्य सिंगर मार गए बाजी

हरियाणवी सिंगर एवं मुख्यमंत्री मनोहर लाल के ओएसडी पब्लिसिटी गजेंद्र फौगाट ने मूसेवाला के विवादित गीत के जवाब में गीत बनाने का दावा किया था। लेकिन गीत बनाने के बजाय इग्लैंड में अपने शो करने के लिए रवाना हो गए। गजेंद्र फौगाट से पहले हरियाणा के सिंगर रामकेश जीवनपुनिया और मासूम शर्मा के अलावा कई अन्य सिंगर ने मूसेवाला के गीत के जवाब में गीत तैयार कर रिलीज भी कर दिया। हरियाणवी गायकों के गीतों को इंटरनेट मीडिया पर जबरदस्त समर्थन मिल रहा है।

-----सिद्धू मूसेवाला के गीत में खालिस्तानी विचारधारा सामने आ रही है। सिद्धू मूसेवाला भगवान को प्यारे हो गए हैं। लेकिन उनके इस गीत को अभिभावकों व पंजाब के लोगों ने समर्थन नहीं करना चाहिए था क्योंकि इसमें आपसी भाईचारे को तोडऩे, एसवाईएल के पानी में हरियाणा के हक मारने और तोडऩे की सेंस निकल रही है, जो सही नहीं है। हरियाणा ने पंजाब का हर अवसर पर साथ दिया और बड़ा भाई माना है। लेकिन इस गीत का विरोध पंजाब के लोगों ने नहीं किया बल्कि समर्थन किया है। इसलिए जवाब देने के लिए गीत बनाया है।

-रामकेश जीवनपुनिया, हरियाणावी सिंगर

Edited By: Manoj Kumar