संवाद सूत्र, रतिया : क्षेत्र के एक व्यवसायी के बेटे द्वारा जहरीला पदार्थ खाकर आत्महत्या किए जाने का मामला प्रकाश में आया है। आत्महत्या करने वाले युवक विक्रम की जेब से सुसाइड नोट भी मिला है जिसमें शहर के एक बैंक में कार्यरत महिला कर्मी शेफाली पर झूठे केसों के मामले में फंसाने की बात कही गई है। इस परेशानी के चलते ही आत्महत्या करने का कारण बताया गया है। पुलिस ने मृतक की माता रंजू बाला पत्नी ओमप्रकाश निवासी बादलगढ़ की शिकायत पर बैंक कर्मी शैफाली उर्फ हिना के खिलाफ धारा 306 के तहत मामला दर्ज कर आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है।

पुलिस के समक्ष बयान देते हुए मृतक की मां ने बताया कि उसकी पहली शादी हनुमान निवासी भिवानी के साथ हुई थी और उस शादी से उसका एक लड़का विक्रम पैदा हुआ था। उन्होंने बताया कि बाद में उसके पति भिवानी की मृत्यु हो गई थी, जिसके चलते उसने दूसरी शादी ओमप्रकाश निवासी बादलगढ़ रतिया के साथ कर ली थी। उन्होंने बताया कि जब दूसरी शादी की थी तो उसका बेटा विक्रम ननिहाल तलवाड़ा में रहता था,। महिला ने पुलिस को बताया कि अब पिछले 5 वर्ष से उसका बेटा विक्रम उनके पास बादलगढ़ में ही रहता था और वह अपने सौतेले पिता ओमप्रकाश का कारोबार चलाने में भी सहयोग कर रहा था। उन्होंने बताया कि इस अंतराल में उसके बेटे विक्रम की दोस्ती फतेहाबाद निवासी व रतिया के एक बैंक में कर्मचारी शैफाली उर्फ रीना निवासी के साथ हो गई थी। आरोप लगाया कि शैफाली ने उसके बेटे को अपने प्रेमजाल में फंसा लिया और बेटे से लाखों रुपए व सोना आदि हड़प लिया।

इस संदर्भ में उसका बेटा निरंतर उसे कई बार बता चुका है। हालांकि उन्होंने कई बार उसके बेटे का हौसला भी बढ़ाया था कि उसके पैसे आ जाएंगे, लेकिन वह कई दिनों से काफी परेशान था। उन्होंने कहा कि सोमवार को बाद दोपहर 3 बजे जब वह अपने गांव बादलगढ़ में थी तो उनकी रतिया स्थित दुकान से मुनीम कुलदीप का फोन आया कि विक्रम की तबीयत खराब हो गई है, इसलिए आप रतिया आ जाओ । महिला ने पुलिस को बताया कि सूचना मिलने के पश्चात वह अपने पति के साथ रतिया की दुकान पर आई तो इस दौरान उसके बेटे ने उसे बताया कि जब भी वह शैफाली से पैसे या सोना मांगता है तो वह मुझे दुष्‍कर्म के केस में फंसाने की धमकी देती है। इस वजह से उसने जहरीला पदार्थ गटक लिया है।

उन्होंने इस बात को सुनते ही वह तुरंत बेटे को उपचार के लिए शहर के निजी अस्पताल में ले गए थे, जहां चिकित्सकों ने फतेहाबाद रैफर कर दिया। उन्होंने बताया कि हालत खराब होने पर फतेहाबाद के चिकित्सकों ने भी हिसार रैफर कर दिया, लेकिन हिसार के निजी अस्पताल में चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। महिला ने पुलिस के समक्ष आरोप लगाया कि उसके बेटे ने उक्त बैंक कर्मी द्वारा पैसे व सोना न देने की धमकी से परेशान होकर ही जहरीला वस्तु खाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली है। बताया जाता है कि मृतक विक्रम की पेंट की जेब से एक सुसाइड नोट भी मिला है, जो पुलिस ने अपने कब्जे में ले लिया है। पुलिस ने मृतक की मां के बयानों के आधार पर महिला बैंक कर्मी के खिलाफ मामला दर्ज कर आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है। इ

मामला दर्ज कर लिया

मृतक विक्रम की जेब से एक सुसाइड नोट मिला है और सुसाइड नोट को कब्जे में ले लिया है। मृतक की माता रंजू बाला के बयानों के आधार पर आरोपी बैंक कर्मी महिला के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

- रूपेश चौधरी, एचएचओ, रतिया।

Edited By: Manoj Kumar