टोहाना (फतेहाबाद) [मणिकांत मयंक] अमेठी लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी को परास्त कर देशभर में सुर्खियां बटोर गईं केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी ने भारतीय जनता पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला की नामांकन सभा से राष्ट्रवाद का ध्वज लहराया। बेशक, राष्ट्रवाद की छांव तले उन्होंने गरीब, किसान व जवान को अहमियत दी। उन्होंने चुनाव के दरम्यान इन तीनों बेहद अहम किरदारों को साथ लेकर कांग्रेस पर समानांतर राजनीतिक हमले किये। केंद्रीय व राज्य स्तर पर।

स्मृति ईरानी ने कहा कि कांग्रेस ने उनका साथ दिया जिन्होंने देश के टुकड़े करने का षड्यंत्र रचा। इसी पृष्ठभूमि में पाकिस्तानी कांग्रेस के नजदीक आ गए जबकि हिंदुस्तानी भारतीय जनता पार्टी के। कांग्रेस की कलुषित सोच की हद हो गई धारा 370 पर यह कह दिया कि हम कैसे निर्णय ले सकते? सवाल यह उठता है कि जब देश हमारा है तो निर्णय पाकिस्तान कैसे लेगा?

राष्ट्रवाद की अलख के बीच स्मृति  ने कांग्रेस की पूर्ववर्ती केंद्र व राज्य सरकार को गरीबी पर भी कठघरे में ला खड़ा किया। उन्होंने कहा, केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने गरीबों के लिए 50 हजार से 10 लाख रुपये की व्यवस्था यह कहते हुए दी कि गरीब स्वाभिमानी होते हैं, वे लोन के पैसे लौटा देते हैं। देश भर में 20 करोड़ लोग मुद्रा योजना का लाभ उठा रहे हैं। हरियाणा में भी 8 लाख, 60 हजार लोगों को योजना का लाभ मिला है। यही नहीं, प्रदेश में 70 लाख नागरिकों का खाता खुला है।

एकसंदर्भ में स्मृति ईरानी ने कहा कि हरियाणा की माताओं ने हमेशा से अपने बेटों को फौजी जवान बनाकर सरहद की हिफाजत के लिए भेजा है। केंद्र की मोदी सरकार ने वन रैंक, वन पेंशन लागू कर कांग्रेस को जवानों के हित की मिसाल दी है। उन्होंने कहा कि प्रदेश केंद्र सरकार ने हमेशा ही किसानों की चिंता की है। किसानों की प्रगति में ही देश की प्रगति है। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने भ्रष्टाचार मुक्त शासन के लिए राज्य की मनोहर सरकार की पीठ थपथपाई। साथ ही, 70 हजार के रोजगार में पारदर्शिता,गरीबों के जीवन में आमूलचूल परिवर्तन आदि विषयों को लेकर अबकी बार 75 पार के भाजपा के नारे को आधार भी दिया।

पुरुषों के लिए आसान दो दीवाली

भाजपा के राज्य प्रभारी डॉ. अनिल जैन ने अपने संबोधन में दो दीवाली मनाने की बात कही। जब बारी स्मृति के संबोधन की आई तो उन्होंने कहा, पुरुषों के लिए आसान है मगर महिलाओं को बहुत काम करना पड़ता है। वैसे राजनीतिक तौर पर विकास का उत्सव हर दिन मनाएं। इसी आधार पर प्रदेश में भी कमल खिलेगा।

Posted By: Manoj Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप