रोहतक, जागरण संवाददाता। रोहतक में ठगी केे मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। ठगों ने सेक्टर-1 के रहने वाले व्यक्ति से 89 हजार रुपये ठग लिए तो वहीं खाद्य निगम के मंडल प्रबंधक के खाते से भी छह लाख दो हजार रुपये साफ कर दिए। ठगों ने एक अन्य महिला के साथ भी धोखाधड़ी कर 60 हजार रुपये की चपत लगा दी। पुलिस ने तीनों मामले दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। 

अज्ञात नंबर से आई काल

सेक्टर-1 के रहने वाले कृष्ण ने बताया कि 4 जनवरी को उसके मोबाइल पर अज्ञात नंबर से काल आई। फोन करने वाले कि आवाज पहचानकर कृष्ण ने कहा कि आप हरिकिशन दलाल बोल रहे हो। जो रिश्ते में कृष्ण का साला लगता है। जिस पर फोन करने वाले ने हां कह दिया। उसने कहा कि अचानक कोई समस्या आ गई है और कुछ रुपयों की जरूरत है, जिसके बाद कृष्ण ने उसके पास 89 हजार रुपये भेज दिए। रुपये भेजने के बाद कृष्ण ने हरिकिशन को फोन किया कि रुपये मिल गए क्या। इस पर हरिकिशन ने कहा कि उसने रुपये मांगे ही नहीं। तब जाकर पीड़ित को ठगी का पता चला। आरोप है कि फोन करने वाले की आवाज उसके साले की तरह लग रही थी, जिस कारण उसने विश्वास कर रुपये भेज दिए। अर्बन एस्टेट थाना पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। 

अलग अलग ट्रांजेक्शन कर निकाले 6 लाख रुपये

भारतीय खाद्य निगम के मंडल प्रबंधक रोशनलाल ने भी सिविल लाइन थाने में शिकायत दर्ज कराई है। इसमें बताया कि उनका सेलरी अकाउंट एसबीआइ शाखा में है। किसी ने धोखाधड़ी कर उनके खाते से 5 और 6 जनवरी को अलग-अलग ट्रांजक्शन कर छह लाख दो हजार रुपये निकाल लिए। इस रकम को निकालने के लिए उनके मोबाइल पर ना कोई मैसेज आया और ना ही कोई ओटीपी। फिर भी किसी ने धोखे से यह रकम निकाल ली। 

दोस्त बताकर ठगी

विशाल नगर की रहने वाली सिमरन भी अर्बन एस्टेट थाने में शिकायत दी है। शिकायतकर्ता ने बताया कि 6 जनवरी को उसके मोबाइल पर अज्ञडात नंबर से काल आई। जिसने बताया कि वह उसके पिता का दोस्त बोल रहा है। इसके बाद ठग ने बातों में उलझाकर उससे 60 हजार रुपये ठग लिए। थोड़ी देर बाद उसे ठगी का पता चला। तब जाकर पीड़िता ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। 

Edited By: Rajesh Kumar