फोटो : 41

जागरण संवाददाता, हिसार: गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी गुरुद्वारा गोबिद नगर डाबड़ा चौक द्वारा श्री गुरु तेग बहादुर जी के शहीदी दिवस पर डाबड़ा चौक स्थित गोविद नगर गुरुद्वारा में श्रद्धापूर्वक कार्यक्रम का आयोजन 'बोले सो निहाल, सत् श्री अकाल' के जयकारों के बीच किया गया। इस अवसर पर रागी जत्था भाई निरवैर सिंह, रागी जत्था बीबी संदीप कौर व रागी जत्था भाई बलवंत सिंह ने अपने मुखारविद से संगीतमस मधुर शबद कीर्तन कर संगत को निहाल किया। रागी जत्थे ने 'बलिहारी गुरु आपणे, द्यौं हाड़ी के बार, जिन मानिष ते देवते किए, करत ना लागी वार' आदि शब्दों से गुरु की महिमा का गुणगान किया। प्रात:काल आरती 'गगनमय थाल चंद दीपक मोती' शब्द के साथ की गई।

गुरुद्वारा के सचिव स. सुखसागर सिंह ने बताया कि 6 दिसंबर को गुरुद्वारा का श्री अखंड पाठ शुरू किया गया था और 7 दिसंबर को मध के पाठ भोग हुआ व 8 दिसंबर को श्री अखंड पाठ साहेब का भोग व उसके उपरांत रागी जत्थों द्वारा शब्द कीर्तन किया। अंत में सरबत की भलाई के लिए अरदास व अरदास उपरांत गुरु का अटूट लंगर बरताया गया। कार्यक्रम में सभी वक्ताओं ने अपने-अपने संबोधन में धन-धन श्री गुरु तेग बहादुर जी के उपकारों का गुणगान करते हुए उनकी शहादत को नमन किया। इस मौके पर नगर निगम मेयर गौतम सरदाना, ऊषा ठकराल सेवा भारती, संजीव रेवड़ी, डा. देवेंद्र सिंह, प्रवीण पोपली, कृष्ण बिश्नोई, राकेश गुलाटी, डा. राजेंद्र गुप्ता, सत्य प्रकाश, विवेक, रमेश चुघ, अशोक मग्गू, सुनीता शर्मा, सुरेंद्र सिंह, सुखसागर सिंह, मुख्तयार सिंह, प्रिस सिंह, उदयवीर मिटू व सुनीता आदि ने गुरुघर से आशीर्वाद लिया।

Edited By: Jagran