रोहतक, जागरण संवाददाता। रोहतक बस डिपो ने महिला कांस्टेबल भर्ती परीक्षा के लिए युवतियों को केंद्रों तक पहुंचाने में अहम भूमिका निभाई है। राह आसान बनाने के लिए डिपो की ओर दोपहर तक करीब 82 स्पेशल बसें चलाई गई। डिपो की ओर से ये बसें पंचकूला, अंबाला, कुरुक्षेत्र, यमुनानगर, करनाल रुटों पर भेजी गई। जहां रोहतक व आसपास के जिलों से पहुंची युवतियों के परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। युवतियों को परेशानी से बचाने के लिए स्टैंड पर ही सीट नंबर दिया जा रहा था। ये बस पूरी तरह से परीक्षा स्पेशल रही। विभाग की ओर से इन रुटों पर रुटीन सवारियों के लिए अलग से व्यवस्था बनाई गई थी।

सुबह सवा तीन बजे रवाना हुई पहली बस

सुबह के सत्र में परीक्षार्थियों को समय पर पहुुंचाने के लिए जीटी रुट के हर सेंटर के लिए एक-एक बस सुबह सवा तीन बजे ही रवाना कर दी गई। हालांकि अलसुबह ही अच्छी खास भीड़ बस स्टैंड पर जुट गई थी। जिसके चलते यहा से हर 15 मिनट बाद एक बस को रवाना किया जा रहा था। सुबह छह बजे तक ही करीब 50 स्पेशल बसें बस स्टैंड से रवाना हो चुकी थी।

विभाग की ओर से गई थी तैयारियां

युवितयों को परीक्षा स्थल तक पहुंचाने में किसी प्रकार की दिक्कत न आए, इसके लिए विभाग की ओर से पूरी तैयारियां की गई थी। सभी चालक-परिचालकों की छुट्टी रद्द करते हुए इंस्पेक्टर व सब इंस्पेक्टर को व्यवस्था बनाने के लिए शनिवार सुबह तीन बजे ही बुला लिया गया था।

12 बजे तक 207 बसें रुटों पर

रोडवेज के रोहतक डिपो की सामान्य दिनों में करीब 180 बसें रुटों पर हाेती हैं। लेकिन परीक्षा के चलते चलाई गई स्पेशल बसों के कारण शनिवार को दोपहर तक ही करीब 207 बसें रुट पर निकल चुकी थी। रोहतक डिपो को अकेले शनिवार के दिन करीब दस हजार किलोमीटर का इजाफा होगा।

Edited By: Naveen Dalal