रोहतक, जागरण संवाददाता। रोहतक में साल 2021 के बहुचर्चित चौहरे हत्याकांड का मामला एक बार फिर सुर्खियों में है। हत्याकांड का आरोपित अभिषेक न्यायिक हिरासत में बंद है, जो मामले की सीबीआइ जांच की मांग कर रहा है। इस बीच हत्याकांड में शिकायत दर्ज कराने वाले उसके मामा प्रवीण की तरफ से हाई कोर्ट में पिटीशन दायर की गई है। इसमें आशंका जताई है कि इतने बड़े हत्याकांड को कोई एक व्यक्ति अंजाम नहीं दे सकता। इसमें आरोपित अभिषेक के अलावा किसी अन्य की भी भूमिका हो सकती है। जो अभी तक सामने नहीं आई है। ऐसे में मामले की सीबीआइ जांच होनी चाहिए। शिकायकर्ता के अधिवक्ता सुशील पांचाल ने बताया कि प्रवीण कुमार की तरफ से हाई कोर्ट में यह पिटीशन दायर की गई है, जिस पर 20 जनवरी को सुनवाई होनी चाहिए। पुलिस ने इस मामले में कई बिंदूओं पर जांच पूरी नहीं की है। मामले की गहराई तक जाने के लिए सीबीआइ जांच बेहद जरूरी है। इसीलिए यह पिटीशन दायर की गई है।

यह था मामला

शहर की विजय नगर कालोनी निवासी प्रोपर्टी डीलर प्रदीप उर्फ बबलू, उसकी पत्नी बबली उर्फ संतोष, प्रदीप की सास रोशनी और 19 वर्षीय बेटी नेहा की 27 अगस्त को दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। हत्याकांड को घर के अंदर ही अंजाम दिया गया था। इस मामले में प्रदीप के साले सांपला निवासी प्रवीण कुमार ने अज्ञात के खिलाफ शिवाजी कालोनी थाने में केस दर्ज कराया था। हालांकि जांच के बाद पुलिस ने प्रोपर्टी डीलर के बेटे अभिषेक उर्फ मोनू को गिरफ्तार किया था। जो तभी से न्यायिक हिरासत में बंद है। इस मामले में पुलिस करीब 300 से अधिक पेज की चार्जशीट पेश कर चुकी है, जिसमें पुलिसकर्मियों समेत 37 गवाह बनाए गए हैं।

मजिस्ट्रेट के सामने पेशी हुई पूरी, अब सेशन में शुरू होगा ट्रायल

शिकायतकर्ता पक्ष के अधिवक्ता सुशील पांचाल ने बताया कि इस मामले में अभी तक जेएमआइसी सुयेशा जावा की कोर्ट में सुनवाई चल रही थी। हर तारीख पर आरोपित को वीसी या कोर्ट में लाकर पेश किया जा रहा है। यह सुनवाई पूरी हो चुकी है। अब यह मामला सेशन कोर्ट में पहुंच गया। जिस पर 19 जनवरी से ट्रायल शुरू हो जाएगा। ट्रायल के दाैरान दोनों पक्ष अपनी-अपनी दलील देंगे।

बंद पड़े मकान में हो चुकी है चोरी

बंद पड़े मकान में भी हो चुकी चोरी अगस्त माह में हुए चौहरे हत्याकांड के बाद अक्टूबर माह में भी यह प्रकरण उठा था। उस समय बंद पड़े मकान से सामान चोरी कर लिया गया था। आरोपित अभिषेक के नाना राजेंद्र ने थाने में शिकायत दर्ज कराई थी। इसमें बताया था कि मकान की जिम्मेदारी मीना और संदीप के पास थी। पता चला कि बाला, उसके बेटे साहिल, बाला की बहन नीता और उसके बेटे नवीन वहां पहुंचे थे। जिन्होंने मीना से जबरदस्ती मकान की चाबी लेकर उसका ताला खोला। आरोप था कि अभिषेक के कमरे की तलाशी लेकर उन्होंने मकान से जेवरात और जरूरी दस्तावेज चोरी कर लिए थे। यह भी शक जताया था कि वह पहले भी इस मकान में चोरी कर चुके हैं। जिन पर चोरी का आरोप लगा था कि वह भी अभिषेक के रिश्तेदार लगते हैं। शिवाजी कालोनी थाना पुलिस ने आरोपितों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी थी।

Edited By: Naveen Dalal