हिसार, जेएनएन। टिकट रिजर्वेशन के चलते दलालों के चक्रव्यूह को तोडऩे के लिए आइआरसीटीसी (इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिजम कार्पोेरशन ) ने महत्वपूर्ण कदम उठाया है। इसके चलते सभी ट्रेनों के रिजर्वेशन डिब्बों की सीटों की जानकारी अपनी वेबसाइट व मोबाइल एप पर सार्वजनिक कर दिया है। अब मोबाइल पर ही लोग घर बैठे जान पाएंगे कि रिजर्वेशन डिब्बे की कौन-सी सीट रिजर्व है या नहीं।

रेलवे द्वारा यह नया फीचर ई-टिकट बुकिंग प्लेटफार्म के वेब पोर्टल और मोबाइल एप दोनों पर उपलब्ध होगा। आइआरसीटीसी के मोबाइल एप के जरिए यात्री अपनी ट्रेन के रिजर्वेशन डिब्बों की सीटों की स्थिति पहले चार्ट के तैयार होने के साथ ही ले सकेंगे। गौरतलब है कि किसी भी ट्रेन का पहला सीटिंग चार्ट ट्रेन के शुरुआती स्टेशन से चलने से चार घंटे पहले उपलब्ध होगा। जबकि दूसरा चार्ट ऑनलाइन 30 मिनट पहले उपलब्ध होगा। दूसरे चार्ट में यात्री वर्तमान सीटों की स्थिति व पहले चार्ट से सीटों में आए परिवर्तनों को भी देख सकेंगे।

भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए लिया गया फैसला

रेलवे का यह फैसला ट्रेनों में सीटों को लेकर हो रहे भ्रष्टाचार को खत्म करने व अधिक पारदर्शिता सुनिश्चित करने के उद्देश्य से लिया गया है।  यात्रियों को रिजर्वेशन डिब्बों की खाली सीटों के लिए टीटीई के पीछे भागने की जरूरत नहीं पडेगी। सीधे आइआरसीटीसी के एप पर उपलब्ध सीटों की जानकारी के आधार पर टीटीई से संपर्क कर सकेंगे। एप पर ट्रेन के डिब्बों के साथ सीट-वाइज स्थिति प्राप्त होगी और यात्रियों के लिए सबसे महत्वपूर्ण कि टीटीई ऑनलाइन जानकारी के आधार पर सीट खाली होने से इन्कार नहीं कर पाएंगे।

ऐसे देख सकते हैं ऑनलाइन ट्रेन रिजर्वेशन चार्ट

1. आइआरसीटीसी की वेबसाइट व मोबाइल एप पर चार्ट/वेकेंसी के ऑप्शन को क्लिक कीजिए।

2. गाड़ी संख्या व गाड़ी का नाम और जहां से यात्री को सफर करना है, वह इनपुट के रूप में डालिए और उसके बाद ट्रेन के डिब्बों की खाली बर्थ संख्यानुसार देखी जा सकती है।

3. किसी भी डिब्बे के सीटों की स्थिति जानने के लिए उपयोगकर्ता किसी भी विशिष्ट कोच पर क्लिक करके पूरा ब्यौरा ले सकता है।

4. लेआउट में रिजर्वेशन डिब्बे में बंटी सीटों की जानकारी और इंक्वायरी को उपयोगकर्ता टिकट बुक हिस्ट्री में देख सकता है।

इस प्रकार से यात्री किसी भी डिब्बे में खाली सीटों को लेकर सीधा टीटीई से संपर्क कर यात्रा कर सकता है।

-----इससे रिजर्वेशन टिकटों को लेकर चल रही मनमानी को रोकने में मदद मिलेगी। इस प्रकार सभी सीटों के ऑनलाइन होने से भ्रष्टाचार भी काफी हद तक कम होगा। 

-  रामदेव जोईया, बीई, हिसार रेलवे स्टेशन।

Posted By: Manoj Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस