सिरसा, जागरण संवाददाता। पंजाब के ऊपर एक साइक्लोनिक सरकुलेशन बनने व बंगाल की खाड़ी से नमी वाली मानसूनी हवाओं के आने के प्रभाव से वर्षा हो रही है। दक्षिण पश्चिमी मानसून के प्रवेश से सिरसा में 12 एमएम वर्षा हुई। इसी के साथ ओटू व पंजुआना में 6-6 एमएम वर्षा हुई। वहीं शुक्रवार को दिन के समय बार बार हल्की फुहार पड़ती रही। जिससे मौसम सुहावना रहा। इससे पिछले कई दिनों से पड़ रही उमस भरी गर्मी से भी राहत मिली।

25 सितंबर तक मौसम में रहेगा बदलाव

चौधरी चरण सिंह कृषि विश्वविद्यालय हिसार के मौसम वैज्ञानिक डा. मदनलाल खिचड़ ने बताया कि बंगाल की तरफ से नमी वाली हवाओं तथा पंजाब के ऊपर एक साइक्लोनिक सरकुलेशन बनने से 25 सितंबर तक मौसम में बदलाव रहने की संभावना है। इस दौरान कहीं कहीं हवाओं व गरज चमक के साथ हल्की से मध्यम वर्षा व कहीं कहीं बूंदाबांदी की संभावना है। इसके बाद 26 सितंबर से 28 सितंबर तक हरियाणा राज्य में मौसम आमतौर पर खुश्क रहने की संभावना है।

दिनभर बदलता रहा मौसम

मौसम में शुक्रवार को दिनभर बदलाव देखने को मिला। सुबह के समय हल्की फुहार पड़ने लगी। इसके बाद वर्षा होने लगी। दिन के समय कई बार हल्की फुहार पड़ती रही। इससे तापमान में भी कमी आई। शुक्रवार को अधिकतम तापमान 30.0 डिग्री व न्यूनतम तापमान 24.8 डिग्री रहा। इसी के साथ दिन में आसमान में बादल छाए रहे। मौसम सुहावना होने से लोग आनंद लेते भी नजर आए। मिठाई की दुकानों में लोग जलेबी, पकौड़ों की रेहड़ी पर पकौड़े व समोसे खरीदते नजर आए।

किसानों के लिए आफत की वर्षा

खेतों में किसान नरमा की चुगाई व धान की कटाई कढ़ाई का कार्य चल रहा है। अगेती बिजाई करने वाले किसानों को काफी नुकसान हो रहा है। कई जगह धान की फसल तेज हवाओं के कारण बिछ गई है। वहीं किसान नरमा की चुगाई नहीं कर पा रहे हैं। सिरसा जिले में कपास की दो लाख आठ हजार हेक्टेयर व धान की करीब 90 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में बिजाई की गई है।

हिसार रोड, डबवाली, बरनाला रोड पर पसरा कीचड़

शहर में कई जगह पर बरसाती पाइप लाइन डालने का कार्य किया गया है। हिसार रोड, डबवाली रोड व बरनाला रोड पर पाइप डालने के बाद रोड को ठीक नहीं किया गया है। इससे वर्षा होने से रोड पर कीचड़ पसरा हुआ है। जिसके कारण वाहन चालकों को काफी परेशानी झेलनी पड़ी। कई जगह पर वाहन कीचड़ में धंस भी गए। जिन्हें मुश्किल से बाहर निकाला गया।

Edited By: Naveen Dalal