भूना (फतेहाबाद), संवाद सूत्र। सरकारी विभागों में नौकरी दिलवाने के नाम पर एक दंपती द्वारा खजूरी जाटी गांव व आसपास के लोगों से 34 लाख की जालसाजी का मामला सामने आया है। हिसार के सेक्टर 13 निवासी उपरोक्त दंपति ने भिवानी, फतेहाबाद व हिसार की अदालतों में क्लर्क तथा चपरासी के साथ-साथ अग्रोहा मेडिकल कालेज में तथा स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में नौकरी दिलवाने का झांसा पीड़ित लोगों को दिया है। इतना ही नहीं आरोपित दंपत्ति ने अपने आप को नितिन गडकरी व सावित्री जिंदल का नजदीकी भी बताया है।  जिसकी एवज में लोगों का विश्वास जीतने के बाद उपरोक्त दंपती ने अनेक लोगों को 34 लाख रुपए की चपत लगा दी है । भूना पुलिस ने खजूरी जाटी निवासी सीताराम पुत्र रामस्वरूप की शिकायत पर दंपति के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज करके जांच कार्रवाई शुरू कर दी है।

पुलिस को मिली शिकायत के अनुसार

पुलिस को दी शिकायत में खजूरी जाति निवासी सीताराम पुत्र रामस्वरूप ने बताया कि फेसबुक के माध्यम से उसकी मुलाकात मूल रूप से हिसार जिले के लांधड़ी एवं हाल आबाद हिसार के सेक्टर 13 निवासी भावना पत्नी प्रमोद से हुई। जो कि उसके दूर के रिश्तेदारी में जुड़ी हुई है। उपरोक्त भावना खाराखेड़ी के एक निजी स्कूल में अध्यापिका के पद पर कार्यरत है जबकि शिकायतकर्ता का भांजा भी इस स्कूल का विद्यार्थी है। ऐसे में एक बार शिकायतकर्ता सीताराम अपने भांजा को लेने स्कूल गया तो उसकी मुलाकात भावना से हुई । भावना ने सीता राम को बताया कि वह सावित्री जिंदल की करीबी है जबकि नितिन गडकरी से भी अच्छे लिंक हैं जिसके दम पर वह जरूरतमंद लोगों को सरकारी विभागों में नौकरियां दिलवाने का कार्य करती है। हालांकि शिकायतकर्ता को उस पर विश्वास नहीं हुआ लेकिन बार-बार फोन करने के पर सीताराम भावना की बातों में आ गया और भावना ने कहा कि नौकरी ना मिलने पर सारा पैसा वापस होगा।

इन लोगों ने दिए है रुपये

जिसके बाद शिकायतकर्ता सीताराम के कहने पर मताना निवासी भावना पत्नी अमित कुमार ने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में पीओ ऑफिसर की नौकरी के नाम पर 9 लाख नकदी के रूप में उपरोक्त महिला को सौंप दिए।  जिनमें से 8 लाख नौकरी के नाम पर तथा 1 लाख फर्जी परीक्षार्थी बिठाकर परीक्षा उत्तीर्ण करने के नाम पर दिए गए ।  इतना ही नहीं धांगड़ निवासी जय सिंह पुत्र विजय सिंह ने फतेहाबाद की अदालत में चपरासी की नौकरी के नाम पर 3.5 लाख भावना  को सौंप दिए । जबकि उपरोक्त महिला ने खजूरी जाटी निवासी पप्पू से उसके बेटे संदीप को अदालत में चपरासी की नौकरी दिलवाने के नाम पर 2 लाख तथा दूसरे बेटे विक्रम को कृषि विभाग में एलसीडी की नौकरी लगवाने के नाम पर 3 लाख ऐंठ लिए।

2 लाख 25 हजार रुपये लुटे

शिकायतकर्ता के बहनोई सुरजीत सिंह निवासी सीसवाल जिला हिसार से भी उसके भाई सुंदर को हिसार अदालत में चपरासी पद पर नौकरी दिलवाने के नाम पर डेढ़ लाख रुपए लिए है।जबकि शिकायतकर्ता सीताराम से भी उसके चचेरे भाई अनिल को फतेहाबाद कोर्ट में चपरासी पद पर नौकरी दिलवाने के नाम पर 3 लाख रुपये दिए है। शिकायतकर्ता ने बताया कि झलनिया निवासी राजकुमारी से भी उसके पति प्रमोद को पंजाब नेशनल बैंक में क्लर्क के पद पर नौकरी दिलवाने के नाम पर सवा दो  लाख वसूल लिए । जबकि कालवास निवासी विक्रम से भी कृषि विभाग में अकाउंटेंट की नौकरी दिलाने के नाम पर ढाई लाख रुपये तथा मोहम्दपुर रोही निवासी पप्पू से कृषि विभाग में अकाउंटेंट की नौकरी दिलवाने के नाम पर 2 लाख 50 हजार तथा खजूरी जाति निवासी पूजा पुत्री पप्पू से कृषि विभाग में क्लर्क पद पर नौकरी दिलवाने के नाम पर 2 लाख 28 हजार वसूल कर लिए। उपरोक्त जालसाजी 9 दिसंबर 2020 से 30 जनवरी 2021 के बीच हुई।

शिकायतकर्ता ने दिलवाए रुपये, अब परेशान

शिकायतकर्ता का आरोप है कि उपरोक्त सभी लोगों ने उस पर पर विश्वास करके अपनी सारी पूंजी भावना व उसके पति के हवाले कर दी किंतु निर्धारित समय पर न तो भावना द्वारा उपरोक्त लोगों को नौकरी दिलवाई गई और ना ही पैसे वापस लौटाए।  पैसे वापस लौटाने के नाम पर कई बार भावना शिकायतकर्ता सीताराम को शपथ पत्र दे चुकी है लेकिन लोगों का जप्त किया गया रुपए वापस लौटाने में आनाकानी कर रही है।  शिकायत मिलने के बाद भूना पुलिस ने मामला दर्ज करके जांच कार्रवाई शुरू कर दी है

Edited By: Naveen Dalal