- गहन मंथन व भौगोलिक परिस्थितियों को ध्यान में रखकर दी जाती हैं सिफारिशें फोटो- 1

जागरण संवाददाता, हिसार : चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विवि किसानों की सेवा के लिए हर समय तैयार है। किसानों को किसी भी सूरत में फसलों संबंधी समस्याओं का सामना न करना पड़े इसके लिए समय-समय पर प्रदेश के कृषि अधिकारियों व किसानों के साथ विश्वविद्यालय के वैज्ञानिक हर समय संपर्क बनाए रखते हैं। ये विचार एचएयू के कुलपति प्रोफेसर बीआर काम्बोज ने कहे। वे विश्वविद्यालय में आयोजित कृषि विज्ञानियों एवं प्रदेश सरकार के कृषि अधिकारियों की दो दिवसीय कार्यशाला के समापन अवसर पर बतौर मुख्यातिथि व्यक्त किए। कार्यक्रम में अतिरिक्त गन्ना आयुक्त डा. जगदीप बराड़ विशिष्ट अतिथि मौजूद रहे। मुख्यातिथि ने कहा कि विश्वविद्यालय द्वारा तैयार की गई समग्र सिफारिशें प्रदेश की भौगोलिक परिस्थितियों, जलवायु, सिचाई सुविधाओं, मृदा जैसे अनेकों कारकों को ध्यान में रखकर बनाई जाती हैं ताकि किसानों को इसका भरपूर लाभ मिल सके। उन्होंने विज्ञानियों से आह्वान किया वे समग्र सिफारिशों को ओर भी सरल भाषा में मुहैया करवाएं ताकि कम पढ़े-लिखे किसान भी आसानी से उसका फायदा उठा सकें। डा. जगदीप बराड़ ने कहा कि सरकार किसानों के लिए निरंतर प्रयासरत है।

विज्ञानियों व कृषि अधिकारियों ने दिए महत्वपूर्ण सुझाव

दो दिवसीय कार्यशाला में छह सत्र आयोजित किए गए। कार्यशाला के प्रथम दिन गेहूं व जौ के लिए संबंधित अधिकारियों व विज्ञानियों ने महत्वपूर्ण सुझाव दिए। दूसरे सत्र में गन्ना व मक्का और तीसरे सत्र में दलहन व चारा फसलों को लेकर विचार-विमर्श किया गया। इस दौरान विज्ञानियों ने उक्त फसलों की समस्याओं व उनके निदान के लिए सुझाव दिए। कार्यशाला के दूसरे दिन तिलहन फसलों, शुष्क कृषि, कृषि वानिकी को लेकर विज्ञानियों ने विचार रखे। इस दौरान प्रदेश के कृषि अधिकारियों व विश्वविद्यालय के विज्ञानियों ने अपने-अपने क्षेत्र में गत वर्ष फसलों में आई समस्याओं को प्रस्तुत किया और उसको लेकर सुझाव दिए।

Edited By: Jagran