झज्जर, जेएनएन। महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय (एमडीयू) रोहतक से संबंधित कालेज में वंचित रहे स्नातक के विद्यार्थियों की परीक्षाएं 17 जून से आरंभ होंगी। जो विद्यार्थी कोरोना महामारी के दौर में किसी कारण से परीक्षा नहीं दे पाए थे, उन्हें एमडीयू ने एक मौका दिया है। जिसके तहत विद्यार्थी आनलाइन माध्यम से परीक्षा देकर उत्तीर्ण हो सकते हैं। एमडीयू द्वारा दिए गए इस मौके का विद्यार्थी भी फायदा उठा पाएंगे। कोरोना संक्रमण को देखते हुए ये परीक्षाएं आनलाइन माध्यम से लेने का ही फैसला लिया गया है।

ताकि विद्यार्थियों को बिना कालेज आए घर पर सुरक्षित रहते हुए परीक्षा देने का मौका मिले। यह विकल्प खासकर उन विद्यार्थियों को दिया गया है जो कहीं बाहर होने या किसी अन्य कारण से परीक्षा नहीं दे सके थे। अब कालेज प्रशासन द्वारा भी तैयारी कर रखी है। ताकि विद्यार्थी आसानी से परीक्षा दे सकें।

इधर, एमडीयू की स्नातकोत्तर की परीक्षाएं 16 जून से आरंभ हो चुकी है। स्नातकोत्तर प्रथम सेमेस्टर के विद्यार्थियों ने बुधवार को घर पर रहते हुए परीक्षा दी। इस दौरान कुछ दिक्कतें भी आई, लेकिन उन दिक्कतों के हल होने पर विद्यार्थी उत्साह के साथ परीक्षा देते नजर आए। इसके लिए कालेज में उपस्थित रहकर पर्यवेक्षक ने गूगल मीट के माध्यम से विद्यार्थियों पर निगरानी रखी। विद्यार्थियों को आनलाइन परीक्षा संबंधित तैयारियां खुद ही करनी पड़ी।

परीक्षा के लिए लैपटाप या मोबाइल से लेकर उत्तर पुस्तिका तक पहले से ही तैयारी करनी है। आनलाइन परीक्षा प्रणाली से विद्यार्थियों को माक ड्रिल के माध्यम से अवगत करवाया। माक ड्रिल में डम्मी पेपर दिया, साथ ही गूगल मीट ज्वाइन करना, ई-मेल से पेपर डाउनलोड करना, कैमरा सेट करना, सही तरीके से कैमरे के सामने बैठना, उत्तर पुस्तिका स्कैन करना और उसकी पीडीएफ बनाकर भेजने की प्रक्रिया शामिल रही। ताकि विद्यार्थियों को परीक्षा के दौरान परेशानी ना हो।

नेहरू कॉलेज के आनलाइन परीक्षा के सुपरिटेंडेंट विकास सुहाग ने बताया कि 16 जून से एमडीयू की स्नातकोत्तर के प्रथम सेमेस्टर की परीक्षा आरंभ हो गई है। वहीं 17 जून से स्नातक के उन विद्यार्थियों की परीक्षाएं होंगी, जो वंचित रह गए थे। आनलाइन परीक्षाओं के लिए पूरी तैयारी कर रखी है।

Edited By: Manoj Kumar