जेएनएन, हिसार : डाबड़ा चौक पुल के नीचे रेलवे लाइन के दोनों ओर से पुल पर चढऩे के लिए लोहे की सीढिय़ा लगाने का काम शुरू हो गया है। इन सीढिय़ों का यह फायदा होगा कि पैदल चलने वालों लोगों को रेलवे लाइन और पूरा डाबड़ा चौक पुल पार करके की जरूरत नहीं पड़ेगी। एक सीढ़ी से पुल पर चढ़कर दूसरी पीढ़ी से उतरा जा सकता है। वहीं हिसार में डाबड़ा चौक पुल ऐसा होगा जहां पुल पर चढऩे के लिए सीढ़ी लग रही है। अभी तक किसी भी पुल में सीढ़ी नहीं लगी है। यहां तक की सब्जी मंडी आरओबी में बीएंडआर की ओर से जगह छोड़ी हुई है मगर बावजूद इसके आज तक सीढ़ी बनाने का काम शुरू नहीं हुआ। इसका कारण ठेकेदार को पूरी पेमेंट न करना।

बीएंडआर की ओर से डाबड़ा चौक पुल का काम करने वाले ठेकेदार को 98 फीसद पेमेंट की जा चुकी है। 2 फीसद पेमेंट इसी लिए रोकी हुई थी ताकि पुल पर चढऩे के लिए सीढ़ी बनाई जा सके। अब ठेकेदार के काम पूरा होने के बाद उसे पूरी पेमेंट कर दी जाएगी। मगर सब्जी मंडी पुल बनाते समय अधिकारियों ने इस बात का ध्यान नहीं रखा और ठेकेदार को पूरी पेमेंट कर दी। यही कारण है कि प्रोजेक्ट में होने के बावजूद सब्जी मंडी पुल पर आज तक सीढ़ी नहीं बन पाई है।

नए पुल पर बननी थी सीढिय़ां पर वहां फुटपाथ नहीं

डाबड़ा चौक पुल के प्रोजेक्ट की बात करें तो सीढिय़ों को पुराने के बजाए नए पुल के साथ बनना था मगर इंजीनियरों द्वारा पुल पर फुटपाथ के लिए जगह नहीं छोड़ी गई। विभाग इसके लिए जमीन अधिग्रहण न होना कारण बता रहा है।

ऐसा है डाबड़ा चौक पुल

लंबाई : 613 मीटर

चौड़ाई : साढ़े आठ मीटर

ऊंचाई : पुराने पुल से 1.89 मीटर ऊंची

लागत :  करीब 15 करोड़ रुपये

समय अवधि : 18 माह

हिसार साइड

लंबाई : 328.51 मीटर

दिल्ली साइड लंबाई : 243.19 मीटर

रेलवे का क्षेत्र : 41.30 मीटर

डाबड़ा चौक पुल से निकलते हैं एक लाख वाहन

डाबड़ा चौक पुल को बने 20 साल से ज्यादा हो चुके हैं। वहीं दूसरी तरफ का पुल हाल ही में बना है। इस पुल से हर रोज एक लाख वाहन से ज्यादा निकलते हैं। जाम लगने और वाहनों की संख्या बढऩे के साथ नए पुल की मांग उठी थी। बीएंडआर के एक्‍सईएन एनके जैन ने बताया कि डाबड़ा चौक पुल पर सीढिय़ां बनाने का काम शुरू हो गया है। पुल के दोनों ओर सीढिय़ां बनाई जाएगी ताकि लोगों को किसी प्रकार की दिक्कत न हो।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: manoj kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप