संवाद सहयोगी,अग्रोहा : शनिवार शाम हुई हल्की बारिश ने अग्रोहा आदमपुर रोड पर बन रही सड़क व नाले निर्माण की पोल खोल दी। जहां ठेकेदार और प्रशासन की लापरवाही के कारण दर्जनभर दुकानें धंसने के कगार पर हैं, वहीं अधूरे नाले के कारण बरसात का पानी कई दुकानों और अस्पताल में घुस गया। जिससे ठेकेदार और जिम्मेदार अधिकारियों की लापरवाही के कारण दुकानदारों में रोष व्याप्त है। अग्रोहा व्यापार मंडल प्रधान खेमचंद मेहता ने बताया कि अग्रोहा से आदमपुर रोड पर करीब पांच सौ मीटर की सड़क और सड़क के किनारे बरसाती नाले का निर्माण किया जा रहा है। व्यापार मंडल प्रधान ने बताया कि जब से निर्माण कार्य शुरू हुआ है न तो एक्सईएन या प्रशासन का कोई अधिकारी मौके पर आकर ठेकेदार को दिशा निर्देश देकर गया है। जिससे ठेकेदार अपनी मनमर्जी से सड़क व नाले के निर्माण में घटिया सामग्री लगाकर निर्माण कार्य किए जा रहा है। जब कोई दुकानदार ठेकेदार से निर्माण कार्य सही करने के लिए कहता है तो वह बदतमीजी से पेश आता है। व्यापार मंडल प्रधान ने बताया कि सड़क के साथ बनाए बरसाती नाला पहली ही बारिश में ठेकेदार की लापरवाही को दिखा गया। जहां पानी नाले में जाना चाहिए था वही पानी दुकानों में घुस गया और दुकानें पानी से भर गई। नाले और मकान और दुकानों के बीच जगह खाली होने के कारण कई दुकानों और मकानों की नींव में पानी चला गया। जिससे दुकानों व मकान के धंसने का खतरा बना हुआ है।

दर्जनभर गाड़ियों को हुआ नुकसान

ठेकेदार की लापरवाही के कारण सड़क के किनारे खाली जगह में पानी का भराव होने से मिट्टी धंस जाने से कई गाड़ियां उसमें फस गई। जिस पर वाहन चालकों ने दुकानदारों और ट्रैक्टर आदि के सहयोग से अपने वाहनों को मिट्टी से निकाला। सैंपल लेकर ठेकेदार पर कार्रवाई करें प्रशासन

व्यापार मंडल प्रधान सहित दुकानदारों ने रोष स्वरूप कहा कि आदमपुर रोड पर हो रहे सड़क व नाले के निर्माण कार्य को लेकर प्रशासन व सरकार सैंपल भरवाए। जिससे ठेकेदार की लापरवाही के साथ अधिकारियों की मिलीभगत सामने आ जाएगी। प्रधान ने बताया कि ठेकेदार आगे से आगे ठेके देकर कमीशन पर काम करता है। नुकसान की करे भरपाई ठेकेदार

व्यापार मंडल प्रधान व दुकानदारों ने रोषस्वरूप आवाज उठाते हुए कहा कि ठेकेदार और अधिकारियों की लापरवाही के कारण हुए नुकसान की भरपाई तुरंत की जाए, यदि दुकानदारों व घरों में हुए नुकसान की भरपाई नहीं की तो सभी दुकानदार मिलकर आंदोलन पर उतारू होगें,और ठेकेदार व सहयोगी अधिकारी के खिलाफ मामला दर्ज कराएंगे।

Edited By: Jagran