फोटो - 22

जागरण संवाददाता, हिसार: बहुउद्देश्यीय स्वास्थ्य कर्मचारी एसोसिएशन हरियाणा (संबधित सर्वकर्मचारी संघ हरियाणा) की मीटिग राज्य प्रधान ओमपति कादयान के नेतृत्व में सिविल अस्पताल में एसोसिएशन कार्यालय में हुई। मंच संचालन राज्य महासचिव श्रवण करोड़ा ने किया। 11 जनवरी को राज्य प्रधान ओमपति कादयान के नेतृत्व में एसोसिएशन का प्रतिनिधिमंडल राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के उप निदेशक से मिला। जिसमें एनएचएम के तहत कार्यरत एमपीएच डब्ल्यू (फीमेल) की लंबित मांगो बारे चर्चा हुई। जिसमें मुख्य रूप से एमपीएचडब्ल्यू (फीमेल) को अति शीघ्र 4200 ग्रेड पे का लाभ शीघ्र दिया जाए। नियमित एमपीएच डब्ल्यू (महिला) कर्मचारियों की तर्ज पर ड्रेस ड्रेस अलाउंस, एफटीए और एमसीएच अलाउंस का लाभ दिया जाए। एनएचएम के तहत कार्यरत एमपीएचडब्ल्यू (महिला) कर्मचारियों को कैशलेस मेडिकल सुविधा का लाभ प्रदान किया जाए। एनएचएम के तहत कार्यरत एमपीएच डब्ल्यू(महिला) कर्मचारियों को सेवानिवृत्त पर एक मुश्त आर्थिक लाभ दस लाख रुपये देने का प्रावधान किया जाए। एनएचएम के तहत कार्यरत एमपीएच डब्ल्यू (महिला) कर्मचारयों के जिला व अंतर-जिला स्तर से रिक्त पदों पर और आपसी सहमति अनुसार स्थानांतरण किए जाए। इसके बाद महानिदेशक डा. वीना सिंह, मलेरिया निदेशक डा. उषा गुप्ता के साथ हुई बातचीत में एमपीएचडब्ल्यू कैडर की लंबित मांगो बारे विस्तार से चर्चा की गई। चर्चा के बाद सर्वसम्मति से प्रस्ताव पारित किया गया कि डीजी कार्यालय ने कार्रवाई का आश्वासन दिया है। वहीं कोरोना के बढ़ते मामलों के कारण 18 जनवरी के प्रस्तावित धरना प्रदर्शन को 28 फरवरी तक स्थगित करने का निर्णय लिया गया। राज्य प्रधान ओमपति कादयान व राज्य महासचिव श्रवण करोड़ा ने बताया की निदेशक स्वास्थ्य सेवाएं हरियाणा एवं मिशन निदेशक एनएचएम को हमारी मांगों पर कार्रवाई करने के लिए 28 फरवरी तक का समय दिया गया है। यदि 28 फरवरी तक एसोसिएशन की सभी मांगों पर उचित कार्रवाई करते हुए उनका निदान नहीं किया गया तो आंदोलन को तेज किया जाएगा।

Edited By: Jagran