जागरण संवाददाता, झज्जर : क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले गांव दुजाना में वीरवार की रात एक 20 वर्षीय युवक द्वारा फांसी लगाकर आत्महत्या करने का मामला सामने आया है। फिलहाल, अभी तक युवक के फांसी लगाने के स्पष्ट कारणों का पता नहीं चल पाया है। मृतक की पहचान योगेश पुत्र राजवीर के रूप में हुई है। वहीं, पुलिस भी मामले की जांच में जुटी है। जैसे ही पुलिस को सूचना मिली तो क्षेत्र की टीम ने मौके पर पहुंचकर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल में भिजवाया।

रात को दूसरे मकान में सोने के लिए गया था योगेश

सिविल अस्पताल में आए स्वजनों ने बताया कि योगेश हलवाई का काम करता था। उसका किसी से भी लड़ाई झगड़ा नहीं था। घर पर भी सब कुछ ठीक-ठाक था। योगेश का एक और भाई है। वह उम्र में उससे छोटा है। वीरवार की शाम को खाना खाकर घर सोने के लिए चला गया। दूसरा प्लाट घर से 1 किलोमीटर की दूरी पर है। योगेश की मां ने रात को फोन किया तो उसने फोन नहीं उठाया। इस दौरान मां ने योगेश को 4 से 5 फोन किए। जब फोन नहीं उठाया तो पड़ोस के एक युवक को मौके पर भेजा।

पड़ोसी युवक जब योगेश के पहुंचा तो उसने देखा कि अंदर से कुंडी लगी हुई है। वहां कमरा खुलवाने की कोशिश की, कई बार आवाज लगाई। मगर अंदर से किसी भी तरह की प्रतिक्रिया नहीं आई। जिसके बाद युवक ने दीवार पर बने रोशनदान से अंदर की ओर देखा तो पंखे पर योगेश का शव लटक हुआ मिला। युवक ने इस मामले की सूचना तुरंत योगेश के स्वजनों को दी।

सूचना के बाद मौके पर पहुंचे स्वजनों ने किसी तरह से दरवाजा खोलने के बाद योगेश के शव को पंखे से नीचे उतारा। लेकिन, तब तक उसकी जान जा चुकी थी। जांच अधिकारी रविंद्र ने बताया कि फिलहाल शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल में भेजा है।

मां करती है दिहाड़ी मजदूरी, 10 साल पहले पिता की हो चुकी है मौत

प्रारंभिक जानकारी में यह भी सामने आया कि योगेश के पिता राजबीर कि 10 साल पहले ही मौत हो चुकी थी। घर का पालन पोषण करने के लिए मां दिहाड़ी मजदूरी का कार्य करती है। बेटे द्वारा फांसी लगाने की घटना से मां एकदम सदमे में है।

कालेज स्टूडेंट ने फांसी लगाकर दी जान थी जान

बता दें कि 13 सितंबर को गांव भिंडावास में एक कालेज स्टूडेंट द्वारा आत्महत्या करने का मामला सामने आया था। युवक नर्सिंग कॉलेज में पढ़ता था

Edited By: Manoj Kumar