बहादुरगढ़, जेएनएन। Farmers Protest: पश्चिम बंगाल से किसान आंदोलन में भाग लेन आई 25 वर्षीय युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म के मामले में बहादुरगढ़ पुलिस की एसआइटी (स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम) ने बड़ा खुलासा किया है। एसआइटी ने कहा है कि युवती से पहले ट्रेन में दुष्‍कर्म किया गया और फिर टिकरी बार्डर के टैंट में दुष्‍कर्म किया गया। युवती को ब्‍लैकमेल करने के लिए वीडियो भी बनाई गई।

एसआइटी द्वारा गिरफ्तार आरोपित अनिल मलिक को पूछताछ के लिए अदालत से तीन दिन के रिमांड पर लिया गया है। उससे पूछताछ के बाद एसआइटी ने खुलासा किया है कि आरोपित अनिल मलिक और अनूप चानौत ने युवती के साथ दुष्कर्म किया था। तीसरे आरोपित अंकुर ने छेड़छाड़ की थी, जबकि चौथे आरोपित जगदीश बराड़ ने युवती पर मुंह बंद रखने का दबाव डाला था।

ब्लैकमेल करने को वीडियो भी बनाई गई, आंदोलन में बंगाल की युवती से दो आरोपितों ने किया दुष्कर्म

दो महिला आरोपितों ने मामले को उजागर करने का प्रयास तो किया, मगर जांच पूरी होने तक उनको क्लीनचिट नहीं दी जाएगी। वीरवार को अदालत में पेशी के दौरान एसआइटी ने पांच दिन का रिमांड मांगा था, मगर अदालत ने तीन दिन का मंजूर किया।

बाद में प्रेसवार्ता में डीएसपी पवन कुमार ने बताया कि आरोपित अनिल द्वारा पहले ट्रेन में और फिर टीकरी बार्डर पर किसान सोशल आर्मी के तंबू में उसके साथ दुष्कर्म किया। इस दौरान अनिल ने अपने मोबाइल से अश्लील वीडियो क्लिप भी बनाई थी। इसी वीडियो क्लिप के जरिये अनूप चानौत ने पीड़िता को ब्लैकमेल किया और उसके साथ दुष्कर्म किया।

उन्‍होंने बताया कि जांच में सामने आया है कि आरोपित अंकुर सांगवान ने पीड़िता के साथ छेड़छाड़ की थी।  जगदीश बराड़ ने आंदोलन बदनाम होने की बात कहकर पीड़िता पर दबाव बनाया था कि वह अपना मुंह बंद रखे। डीएसपी ने बताया कि अन्य आरोपिताें की गिरफ्तारी के लिए भी छापेमारी की जा रही है। जल्द ही उन्हें भी गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

फरार होने के दौरान आरोपित ने बदले कई ठिकाने

डीएसपी ने बताया कि दुष्कर्म के बाद टीकरी बार्डर से फरार होने से लेकर गिरफ्तारी तक मुख्य आरोपित अनिल मलिक ने कई ठिकाने बदले। वह हरिद्वार भी गया। वह मूल रूप से चरखी दादरी जिले के नौरंगाबास जाटान का रहने वाला है। इन दिनों दिल्ली के पोचनपुर में रहता है। उसे पुलिस ने भिवानी के भीम स्टेडियम के पास से गिरफ्तार किया था। वह सेना में रहा है और 2016 में सेवानिवृत्त हुआ था। बाद में बिल्डिंग मेटिरियल व भवन निर्माण का काम करने लगा।

मोबाइल व गाड़ी की बरामदगी के लिए जुटी पुलिस

आरोपित अनिल मलिक ने जिस मोबाइल से पीड़िता की अश्लील वीडियो क्लिप बनाई थी, वह अभी बरामद नहीं हो सका है। पुलिस का कहना है कि आरोपित द्वारा उस मोबाइल को हरिद्वार में छिपाने की बात सामने आई है। साथ ही स्विफ्ट डिजाइर गाड़ी भी बरामद की जानी है। मोबाइल में वह अश्लील क्लिप मिल जाएगी या नहीं, यह अभी साफ नहीं है।

आरोपित अंकुर ने लगा रखी है हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत अर्जी

आराेपित अंकुर सांगवान द्वारा पहले अग्रिम जमानत के लिए झज्जर के जिला एवं सत्र न्यायालय में अर्जी लगाई थी। वह खारिज होने के बाद अब हाईकोर्ट में अर्जी दायर की गई है। पुलिस के मुताबिक इस पर 16 जून को सुनवाई होनी है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप